जुल्म के खिलाफ लड़ने के बजाय ज़ालिम के सामने झुक जाना "हिकमत" नहीं "नामर्दी" है


  ( ये पिछले साल के समाचार पत्र की फ़ोटो है, जिसमें डॉ. संजय निषाद ने भाजपा से निषाद पार्टी के गठबंधन के लाभों के बारे मीडिया को बताया और यही प्रचार करके करोड़ों रुपया भाजपा से ऐंठने के साथ अपने बेटे को सांसद बनाया और आज समाज को गुमराह करने के लिए जगह जगह सभा करते घूम रहे हैं)

 

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) एडिटोरियल (Editorial)।





जुल्म के खिलाफ लड़ने के बजाय ज़ालिम के सामने झुक जाना "हिकमत" नहीं "नामर्दी" है।

       आज उत्तर प्रदेश की मझबार, तुरैहा, गौंड, बेलदार की पुकारू जातियों के आरक्षण पर सबसे बड़ा धोखा देने वाली भाजपा का अपने परिवार की तरक्की के लिए साथ देने वाला "महा ठग", "महा धूर्त" डॉ. संजय कुमार निषाद ने इटावा के "वीर शहीद अखिलेश निषाद", गाज़ीपुर के "हरनाथ बिन्द", और सुल्तानपुर की "कंचन निषाद" की सहादत को बर्बाद करने का काम किया है। ऐसे नेता जो "समाज के पैसे से अपना परिवार मजबूत करने, अपने बेटों को राजनीति में स्थापित करने में लगा है, वह कभी भी इस समाज को हक़ अधिकार नहीं दिला सकता है"।

    आज डॉ. संजय कुमार निषाद केवल कुछ नौकरी पर रखे हुए बेरोजगार लोगों के माध्यम से गांव-गांव अनपढ़, भोली भाली निषाद वंश की जनता को गुमराह कर जिला पंचायत और प्रधानी के चुनाव में बेचने के लिए मेहनत कर रहा है। अगर इतनी मेहनत यह भाजपा को चुनौती देने के लिए करता कि, भाजपा को निषाद पार्टी के आरक्षण और आरक्षण के आंदोलनकारियों पर लगे मुकद्दमे वापिस लेने के वायदे के गठबंधन के कारण निषाद वंश का वोट मिला था को लागू करे और अगर भाजपा की केंद्र और उत्तर प्रदेश की सरकरें मझबार, तुरैहा, गौंड, बेलदार की पुकारू जातियों के आरक्षण को लागू नहीं कर रहे हैं तो हम आपके विरोध में फिर से आंदोलन करेंगे। लेकिन इस महा धूर्त ने आज तक भाजपा के आरक्षण पर धोखा देने के खिलाफ एक शब्द सार्वजनिक रूप से नहीं बोला है, क्यों ?

    वीर शहीद अखिलेश निषाद के पिता आत्मराम निषाद जी की डॉ. संजय कुमार निषाद से यह मांग कि मैंने अपना इकलौता बेटा निषाद वंश के आरक्षण के लिए कुर्बान कर दिया तो, आज आपका बेटा, मेरे बेटे की शहादत से मिला मझबार, गौंड, तुरैहा, बेलदार की पुकारू 17 जातियों के आरक्षण के 22 दिसम्बर 2016 के शासनादेश को खत्म करने वाली, महा धोखेबाज भाजपा के सांसद की अपनी सीट से त्याग पत्र देने की घोषणा इस लोकसभा के बजट सत्र क्यों नहीं कर रहा है ?  और आप सार्वजनिक रूप से भाजपा की आरक्षण पर धोखेबाजी पर क्यों नहीं बोल रहे हो ? दोनों हाथों में लड्डू रखने से आप समाज का हित नहीं कर सकते हो। हाँ बर्बाद जरूर कर सकते हो।

      





 


Popular posts
पढ़ें और समझें : 25 जुलाई 2021 को कैसे भेजें निषाद, कश्यप, बिन्द समाज की पुकारू जातियों के परिभाषित एससी आरक्षण लागू कराने के लिए राष्ट्रपति जी को ज्ञापन
Image
पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों, बढ़ते स्विस बैंकों में भारतीयों के धन पर मोदी सरकार को राज्यसभा में घेरा विशम्भर प्रसाद निषाद ने
Image
मेरी शेरनी बेटी की हत्या करवाने वाली पार्टी बीजेपी के सहयोगी का पैसा नहीं चाहिए मुझे- मूला देवी
Image
आज अयाह शाह विधानसभा क्षेत्र में मा. विशम्भर प्रसाद निषाद जी का 59 वां जन्मदिन बड़ा कार्यक्रम करके मनाएंगे कार्यकर्ता
Image
पूर्व मंत्री मनोहर लाल जी की प्रतिमा के अनावरण के माध्यम से 2022 के चुनाव जीतने के लिए अखिलेश यादव ने किया चुनाव अभियान का श्रीगणेश
Image