सिंधिया द्वारा कांग्रेस की सदस्यता से अंग्रेजी में लिखे गए इस्तीफे का हिंदी अनुवाद

सिंधिया द्वारा कांग्रेस की सदस्यता से अंग्रेजी में लिखे गए इस्तीफे का हिंदी अनुवाद-


"मैं और मेरा राज परिवार हमेशा से देश के साथ खड़ा रहा है, पहले देश में पठानों का राज था तो हम पठानों के साथ थे, फिर देश में मुगलों राज आया तो हम मुग़लिया सल्तनत के अधीन हो गये। 


     जब अंग्रेज़ों का दौर आया तो सल्तनत बचाने के लिये तो उनकी भी गुलामी की और जब तक कांग्रेस राज चला तो हम कांग्रेसी रहे।


     ये मेरी और मेरे इकलौते राज परिवार की कहानी नहीं है, ये हर उस रीढ़विहीन राज परिवार की कहानी है जो समय समय पर संधियों और समझौतों के सहारे अपनी सल्तनत को अाज तक बचा पाये हैं वरना आज हम भी देश के किसी कोने में मुग़लों के वंशजों की तरह कहीं चाय बेच रहे होते। 


    परिवर्तन ही सृष्टि का नियम है, इसे (इस्तीफे को)  स्वीकार कीजिये।"


साभार सोशल मीडिया


Popular posts
बड़ा खुलासा : पंचायत चुनाव में निषाद प्रत्याशियों को हराने के लिए डॉ. संजय कुमार निषाद ने रची साजिश-राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष।
Image
महामहिम राष्ट्रपति महोदय ने सांसद विशम्भर प्रसाद निषाद जी की 17 जातियों के परिभाषित अनुसूचित जाति आरक्षण की मांग का लिया संज्ञान
Image
दबंगों द्वारा बेरहमी से की गई पिटाई से घायल निषाद महिलाओं को फतेहपुर जनपद में क्यों नहीं मिल रहा है न्याय
Image
फतेहपुर में निषाद महिलाओं को दंबगों द्वारा मारपीट कर घायल करने की घटना का संज्ञान लेते हुए सांसद विशम्भर प्रसाद निषाद जी ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
Image
बहुत ही दुखद समाचार : हाथरस में प्रवक्ता तिलक सिंह कश्यप जी का कोरोना से हुआ निधन
Image