कौम के रक्षक या ग़द्दार !! "मौलाना साद और डॉ संजय निषाद"

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, एकलव्य मानव संदेश।  कौम के रक्षक या ग़द्दार !! "मौलाना साद और डॉ संजय निषाद"



ये दोनों अपनी कौम को कयामत का डर और खुद की जन्नत रूपी एसोआराम के लिए अपनी पूरी कौम को भारतीयता से अलग रखना चाहते रहें हैं।
मौलाना साद की हरकत से पूरा मुश्लिम वर्ग आज कोरोना के फैलाव गुनहगार की तरह शक की नज़र से देखा जाने लगा है।
उसी तरह 9 महीने पूर्व तक डॉ. संजय निषाद के कारण निषाद वंशीय मछुआसमाज 
"कभी करसवल कांड"
"कभी गोरखपुर गोरखनाथ मंदिर पर कब्जे की बात" 
"कभी ग़ाज़ीरपुर कठवामोड कांस्टेबल हत्या के आरोप से आरोपित हो"
"पूरी तरह अन्य समाज तथा सरकार से अलग थलग होने के कगार पर पहुच चुका था!
इस तरह के लोग स्वयं के स्वार्थ के लिए पूरी कौम को गुमराह करके रखते हैं।
समय रहते हमने डॉ. संजय निषाद की लालशा को भाँप लिया।
जिस गोरखपुर गोरखनाथ मठ को जनाब समाज को बरगला कर कब्जा कराने के लिए आंदोलन करते फिरते थे, आज उसी मठ के मुखिया जी के चरण धुलाई के लिए सुबह शाम लालायित रहते हैं।
जिस अधिकार के लिए कभी सपा सरकार, कभी भाजपा सरकार से समाज को लड़वाते रहते थे!! पहले सपा की गोद में बेटे संग बैठे गए थे।
अब भाजपा के साथ समाज के सभी अधिकारों के बदले, सौदा कर रसगुल्ले चूशने के बदले चबा चबा कर गटक रहें हैं।
मेरा मेरा तात्यपर्य है कि मुस्लिम भाई लोग मौलाना साद जैसे लोगों से बचते हुए भारतीयता को स्वीकार कर अपने मुल्क, अपने बच्चों, अपनी कौम के लिए नायक बनिये।
-Mahendra Nishad MN की फेसबुक वॉल से लिया गया है


 


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image