प्रधानमंत्री मोदी का ऐलान- 3 मई तक चलेगा लॉक डाउन, नहीं चलेंगी रेल भी इस तारीख तक

एकलव्य मानव संदेश। नई दिल्ली से टीवी पर देश की जनता के लिए अपने सम्बोधन में भारत के प्राधन मंत्री मोदी ने कहा कि तीन मई तक लॉकडाउन बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी ने यही सुझाव दिया है। यह संबोधन 25 मिनट का था।
प्ररधानमंत्री मोदी ने कहा कि लॉकडाउन बढ़ाने के बाद पहले से भी ज़्यादा सतर्कता बरतनी होगी। उन्होंने कहा कि कठोरता और ज़्यादा बढ़ाई जाएगी। मोदी ने कहा कि 20 अप्रैल तक लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है, इसका मुल्यांकन लगातार किया जाएगा।


इस दौरान 7 बार प्रधानमंत्री ने देश की जनता से हाथ भी जोड़े।


   प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर लॉकडाउन का पालन ठीक से किया जाएगा तो हो सकता है कि 20 अप्रैल के बाद कुछ मोहलत दी जाए। लेकिन उन्होंने कहा कि ये छूट भी बहुत सारी शर्तों के साथ होगी। गरीब उनकी पहली प्राथमिकता है। कोई भूखा न सोये इसका ख्याल रखना चाहिए। लॉक डाउन अब पहले से ज्यादा शख्त रहेगा। 15 अप्रैल को जारी होंगी नई गाईड लाइंस।


    प्रधानमंत्री ने जनता से अपील की है कि वो लॉकडाउन का पालन करें और जहां हैं वहीं रहें। उन्होंने कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई में जनता का साथ माँगा।
       दुनिया भर में कोरोना के संक्रमितों की संख्या क़रीब 19 लाख हो गई है। कोरोना वायरस से अब तक एक लाख 18 हज़ार से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं। कोरोना से सबसे ज़्यादा शिकार अमरीका के लोग हुए हैं, जहां 22 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। अकेले न्यूयॉर्क में 10 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है। ब्रिटेन में 11 हज़ार से ज़्यादा लोग मौत के शिकार हुए हैं। ब्रितानी विदेश मंत्री का कहना है कि फ़िलहाल लॉकडाउन में नरमी की कोई गुंजाइश नहीं है।
    फ़्रांस में लॉकडाउन एक महीने के लिए बढ़ा दिया गया है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि सिर्फ़ वैक्सीन ही कोरोना वायरस के फैलाव को पूरी तरह से रोक सकती है।
   प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के लोग लॉकडाउन के कारण बहुत कष्ट सह रहे हैं। उन्होंने लोगों के त्याग की सराहना की। मोदी ने कहा कि अगर समय पर क़दम नहीं उठाया जाता तो हालात और ख़राब होते। उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग से इस महामारी को क़ाबू पाने में बहुत मदद मिली है।।           प्रधानमंत्री ने सात बातों में देश की जनता से साथ मांगा.


-बुज़ुर्गों का ख़ास ख़याल रखें।


-सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह पालन करें।


-अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय के निर्देश का पालन करें।


-कोरोना संक्रमण रोकने के लिए आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप ज़रूर डाउनलोड करें।


-जितना हो सके उतना ग़रीब परिवारों के भोजन की आवश्यकता पूरी करें।


-अपने साथ काम करने वालों को नौकरी से न निकालें।


डॉक्टर, नर्स, सफ़ाईकर्मी, पुलिस का आदर करें।


      इसके बाद रेलवे ने भी घोषणा की कि 3 मई तक रेल नहीं चलाई जाएँगीं।


आप अब एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र (28 जुलाई 1996 को अलीगढ़, उत्तर प्रदेश से प्रसारित) के डिजिटल चैनल पर ऑनलाइन खबरें और वीडियो भी देख सकते हैं-


एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखें


1. गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh एप डाउनलोड करने के लिए लिंकः https://goo.gl/BxpTre


2. वेवसाईटें-


www.eklavyamanavsandesh.com


eklavyamanavsandesh.Page


यूट्यूब चैनल- 2 हैं 


Eklavya Manav Sandesh


लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg


https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg


फेसबुक पर- हमारे पेज 


Eklavya Manav Sandesh


 को लाइक करके


लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/


ट्विटर परफॉलो करें


Jaswant Singh Nishad


लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad (@JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09


एवं 


लिंकः 


Check out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09


आप हमारे रिपोर्टर भी बनने 


और विज्ञापन के लिए 


सम्पर्क करें-


जसवन्त सिंह निषाद


संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक


कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002


मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स


9219506267, 9457311662


 


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image