( 15 मई 2020 ) एकलव्य मानव संदेश द्वारा प्रसारित विभिन्न जिलों से की कोरोना खबरें

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh), ब्यूरो की ( 15 मई 2020 ) एकलव्य मानव संदेश द्वारा प्रसारित विभिन्न जिलों से की कोरोना खबरें-


अलीगढ़ महानगर में लॉक डाउन व धारा 144 सीआरपीसी का उल्लंघन


भीड़ एकत्रित करने पर हुई सख्त कार्यवाही, 150 अज्ञात लोगों के साथ 5 संबंधियों के विरुद्ध दर्ज हुआ मुकद्दमा


सेव अलीगढ़, सेफ अलीगढ़ के तहत शहर में विगत दिनों स्व. शेखर सर्राफ की माताजी के निधन पर अंतिम संस्कार के लिए उपस्थित हुए लगभग 150 अज्ञात लोगों सहित दीपक (रिश्तेदार), विष्णु (रिश्तेदार), राजकुमार (रिश्तेदार), अमित (शेखर सर्राफ के पुत्र) व सुमित (शेखर सर्राफ के पुत्र) के द्वारा लॉक डाउन व धारा 144 सीआरपीसी उल्लंघन करने के कारण सभी के विरुद्ध धारा 188, 269, 271 व महामारी अधिनियम 3 के तहत एफआईआर कराई गई है। 


देखिये एफआईआर कॉपी



 


कटंगी-पाटन, जबलपुर, मध्यप्रदेश (Katangi-Patan, Jabalpur, Madhya Pradesh) रिपोर्टर सुन्दर लाल वर्मन की रिपोर्ट।


कटँगी-पाटन (जबलपुर ) आईसीएमआर लैब में 12 मई को भेजे गए 07 सेम्पल में सभी की निगेटिव की रिपोर्ट आई निगेटिव।  मुख्य खण्ड चिकित्सा अधिकारी, (पाटन), डॉ. आदर्श विश्नोई ने यह जानकारी दी और कहा पाटन एवं कटँगी के सभी नागरिकों से अनुरोध है, कोई भी बाहर से आए उसको अस्पताल भेजकर चेकअप ज़रूर कराएँ और 14 दिन तक अपने ही घर में क्वॉरंटीन (प्रथक) रहें। अस्पताल मास्क पहनकर ही आए और सामाजिक दूरी का विशेष रूप से पालन करें।


 


मुगरा बादशाहपुर, जौनपुर, उत्तर प्रदेश (Mugra Badshahpur, Jaunpur, Uttar Pradesh) रिपोर्टर शिव कुमार बिन्द की रिपोर्ट।  सूरत से लौट रहा मजदूर मिला कोरोना वायरस संदिग्ध, मुगरबादशाहपुर में हड़कंप


    एक तरफ कोविड-19 से जहां पूरी दुनिया में दहशत का माहौल है, वहीं जनपद जौनपुर बॉर्डर पार करते हुए ट्रक द्वारा सूरत से एक मजदूर मुंगरा बादशाहपुर पहुंच जाने का मामला प्रकाश में आया है जो घोर लापरवाही को दर्शाता है। सूरत से उत्तर प्रदेश पहुंचने तक कहीं पर किसी भी प्रकार की जांच नहीं की गई। जो कहीं न कहीं सरकार और प्रशासन के कार्यों पर प्रश्नवाचक चिन्ह लगाती है।


       सूरत से उत्तर प्रदेश के मऊ जिले के पोस्ट- घोंसी, गांव फरीदपुर निवासी श्यामू राजभर पुत्र लालचंद राजभर अपने साथी के साथ ट्रक से गांव जा रहा था, उसके साथ विभिन्न जनपद के 40 लोग ट्रक में सवार थे। 14 मई को प्रयागराज और जौनपुर जनपद के बार्डर पार कर पूरऊपुर नहर पर एक साथ सभी मजदूर उतर गए। उसमें से श्यामू राजभर पुत्र लालचंद की हालत गंभीर होते देख उसके साथी ने 108 को एम्बुलेंस सेवा को सूचना दी। मौके पर एम्बुलेंस पहुंच कर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मुंगरा बादशाहपुर चिकित्सक परीक्षण के लिए लाया जहां पर चिकित्सकों ने जांच के उपरांत कोरोना वायरस संदिग्ध चिन्हित करते हुए तत्काल जिला अस्पताल 108 एम्बुलेंस से भेज दिया। एंबुलेंस कर्मियों की सुरक्षा को मध्य नजर रखते हुए उन्हें पीपीई किट पहनाई गई। अब जिला चिकित्सालय से रिपोर्ट बाद ही पता चल पाएगा


Popular posts
पैलानी खदान में टीला धंसने से 3 मजदूरों की मौत: विशम्भर प्रसाद निषाद ने 50-50 लाख के मुआवजे की मांग
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image