बाल काटने वाले कारीगरों की समस्याओं पर अति पिछड़ा वर्ग संघर्ष मोर्चा ने लिखा उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री को पत्र

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश (Aligarh, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट। बाल काटने वाले कारीगरों की समस्याओं पर अति पिछड़ा वर्ग संघर्ष मोर्चा ने लिखा उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री को पत्र।


सेवा में 


माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सत्कार लखनऊ 


महोदय , 


वड़े ही विनम्रतापूर्वक अवगत कराना हे कि आज कोराना महामारी कं कारण सगी नागरिक त्रस्त हैं। श्रीमानजी आपक माध्यम से कारगर वग्दम उठायें जा रहे हे, मुख्यत : शरीरिक दूरी (सामाजिक दूरी ) दो गज दूरी आदि का, आज़ जागरूक नागरिक, इस नियम का पालन कर रहे हैं तथा अन्य नागरिकों को प्रेरित कर रहे हैं। एवं शासन-प्रशासन के द्वारा जारी निर्देशों का पालन कर रहे हैं। कोरोना महामारी से बचाव सुरक्षा के नियमों का पालन कर रहे हैं। 
     बाल काटने वाले कारीगर कुछ संख्या में किराये की दुकान लेकर बाल काटने का कार्य करते हैं और कुछ संख्या में ऐसी दुकानों पर कारीगर के तौर पर कार्य करते हैं। साथ ही कुछ ऐसे भी हैं जो सडक पर कुर्सी लगाकर फेरी, यजमानी, लकड़ी आदि के खोखा रख कर बाल काटने का कार्य करते हैं। ऐसे समी परिवारों का जीवन कोरोना महामारी के कारण अंधकार व भूख के कगार पर आ गये हैं, न तो इस बाल काटने के कारोबार को वन्द कर सकते हैं और ना ही इस बाल काटने के कार्य के अलावा अन्य कोई कार्य नहीं कर सकते हैं। ऐसी परिस्थिति में अपने परिवार का भरण पोषण भी नहीं कर पा रहे हैं। ऐसी भीषण परिस्थिति के समय इस तबके को विशेष सरकारी सहयोग की आवश्यकता है।
अत: श्रीमानजी से करबद्ध प्रार्थना करते है कि मण्डल के प्रत्येक थाना क्षेत्र को आधार मानकर सभी बाल काटने का काम करने वाले परिवारों को राहत के तौर पर भरण-पोषण, गुजारा भत्ता रूपये 10,000 प्रतिमाह दिया जाये तथा प्राथमिकता के आधार पर शिक्षा, स्वास्थ्य, सुरक्षा व विभिन्न रोजगारों के अवसर भी योजना बनाकर मुहैया कराया जाय। मुहैया कराये जाएं। 
संगठन आपका हमेशा आभारी रहेगा।


देखें पत्र