इस सप्ताह (31 मई 2020) का पूरा एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र देखें-

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, एकलव्य मानव संदेश।  इस सप्ताह (31 मई 2020) का पूरा एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र आपके लिए।


(पीडीएफ देखने के लिए इस लिंक को किलिक कीजिए


https://www.eklavyamanavsandesh.com/2020/05/31-2020.html)



एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र 28 जुलाई 1996 को अलीगढ़, उत्तर प्रदेश से प्रारंभ हुआ था जिसका   डिजिटल चैनल 16 अप्रैल 2017 को अलीगढ़, उत्तर प्रदेश से ही प्रारंभ हुआ था। जिसके माध्यम से आप पूरी दुनिया में कहीं भी ऑनलाइन खबरें और वीडियो भी देख सकते हैं-


एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखें-


1. गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh एप डाउनलोड करने के लिए लिंकः https://goo.gl/BxpTre


2. वेवसाईटें-www.eklavyamanavsandesh.com


eklavyamanavsandesh.Page


यूट्यूब चैनल- 2 हैं


Eklavya Manav Sandesh


लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg


https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg


फेसबुक पर- हमारे पेज
Eklavya Manav Sandesh
 को लाइक करके
लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/


ट्विटर पर फॉलो करें
Jaswant Singh Nishad
लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad (@JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09
एवं
लिंकःCheck out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09


आप हमारे रिपोर्टर भी बनने
और विज्ञापन के लिए
सम्पर्क करें-
जसवन्त सिंह निषाद
संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक
कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002
मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स
9219506267, 9457311662



Popular posts
पैलानी खदान में टीला धंसने से 3 मजदूरों की मौत: विशम्भर प्रसाद निषाद ने 50-50 लाख के मुआवजे की मांग
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image