उत्तर प्रदेश के मजदूरों का 1000 बोरा गेंहू बिकने पहुंचा मध्यप्रदेश

अलीगढ़, एकलव्य मानव संदेश। ये क्या हो रहा है इस कोरोना लॉक डाउन में। एक ओर जहाँ मजदूरों की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। भोजन न मिलने, पैसा न होने के कारण भूंखे प्यासे बच्चों के साथ बेबसी के साथ लगातार मजदूर और प्रवासी लोग अपने घर जा रहे हैं। वहीं इन आपदा में भ्रस्टाचारियों की भी पौ बारह हो गई हैं। मजदूरों के लिए प्रतिव्यक्ति 5 किलो गेंहू या चावल देने के लिए पूरे देश में सरकार ने खजाना खोल दिया है लेकिन मानवता के दुश्मन इस में भी अपनी काली करतूतों से बाज नहीं आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश से चार ट्रकों में 1000 बोरा मध्यप्रदेश के सागर की मंडी ममें बेचने के लिए पहुंच गया जो बाद में पकड़ा गया है।


 


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image