उत्तर प्रदेश के मजदूरों का 1000 बोरा गेंहू बिकने पहुंचा मध्यप्रदेश

अलीगढ़, एकलव्य मानव संदेश। ये क्या हो रहा है इस कोरोना लॉक डाउन में। एक ओर जहाँ मजदूरों की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है। भोजन न मिलने, पैसा न होने के कारण भूंखे प्यासे बच्चों के साथ बेबसी के साथ लगातार मजदूर और प्रवासी लोग अपने घर जा रहे हैं। वहीं इन आपदा में भ्रस्टाचारियों की भी पौ बारह हो गई हैं। मजदूरों के लिए प्रतिव्यक्ति 5 किलो गेंहू या चावल देने के लिए पूरे देश में सरकार ने खजाना खोल दिया है लेकिन मानवता के दुश्मन इस में भी अपनी काली करतूतों से बाज नहीं आ रहे हैं। उत्तर प्रदेश से चार ट्रकों में 1000 बोरा मध्यप्रदेश के सागर की मंडी ममें बेचने के लिए पहुंच गया जो बाद में पकड़ा गया है।


 


Popular posts
आज संसद में विशम्भर प्रसाद निषाद जी ने फिर उठाया परिभाषित SC आरक्षण का मुद्दा : सदन नहीं चलने के कारण नहीं उठा सके आज
Image
विशम्भर प्रसाद निषाद जी द्वारा पाक जेलों में बन्द भारतीय मछुआरों के बारे में पूछे गए सवाल का जबाब 6 माह बाद लिखित में दिया मंत्री ने
Image
आज फिर विशम्भर प्रसाद निषाद जी का SC प्रमाण पत्र से सम्वन्धित सवाल राज्यसभा में हंगामे की भेंट चढ़ गया
Image
25 जुलाई को वीरांगना फूलन देवी शहादत दिवस पर उत्तर प्रदेश के हज़ारों गांव से निषाद बिन्द कश्यप समाज ने भेजे परिभाषित आरक्षण लागू कराने के लिए महामहिम राष्ट्रपति जी को ऑनलाइन ज्ञापन
Image
पूरी जानकारी : कैसे भेजें 25 जुलाई 2021 को निषाद, कश्यप, बिन्द समाज की पुकारू जातियों के परिभाषित एससी आरक्षण लागू कराने के लिए राष्ट्रपति जी को ज्ञापन
Image