जंगलराज!! उत्तर प्रदेश के कानपुर में सीओ सहित 8 पुलिस कर्मी बदमाशों से मुठभेड़ में हुए शहीद

कानपुर, उत्तर प्रदेश। कानपुर के बिठूर में दबिश देने गई पुलिस टीम पर बदमाशों द्वारा की गई फायरिंग में एक सीओ और एसओ सहित 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए। घटना शिवली थाना क्षेत्र के विकरू गांव की है जहां देर रात पुलिस दबिश देने गई थी। इस दर्दनाक घटना में 7 पुलिसकर्मी घायल भी हुए हैं। बदमाशों से मुठभेड़ के दौरान सीओ और बिठूर थाने के प्रभारी सहित कई पुलिसकर्मियों को गोली लगी। घायल पुलिसकर्मियों का हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है। 
     विकास दुबे नामक के हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने के लिए जब विकरू गांव पुलिस पहुंची तो हमलावरों ने छतों से पुलिस पर गोलियां बरसा दीं।
    प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि देते हुए परिजनों के लिए संवेदना व्यक्त करते हुए बदमाशों पर सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। अपर मुख्य सचिव और डीजीपी के लगातार संपर्क में हैं।
    विकास दुबे कानपुर का हिस्ट्रीशीटर और शातिर अपराधी है। जिसके ऊपर 60 मुकदमे दर्ज हैं।
    कानपुर के राहुल तिवारी नाम के व्यक्ति द्वारा चौबेपुर थाना में 307 मुकदमा विकास दुबे के ऊपर दर्ज कराये जाने के बाद  एक बड़ी पुलिस पार्टी विकरू गांव गयी थी। पुलिस को रोकने के लिए बदमाशों ने पहले से ही जेसीबी लगा कर रास्ता रोक रखा था।
    पुलिस पार्टी के पहुंचते ही बदमाशों ने छतों से पुलिस टीम पर फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें 8 पुलिस कर्मी शहीद हो गए। शहीद पुलिस कर्मियों में सीओ देवेंद्र मिश्रा, 3 एसआई और 4 कांस्टेबल हैं। घटनास्थल पर एडीजी लॉ एंड आर्डर, एसएसपी और आईजी मौके पर पहुंच गए हैं। फोरेंसिक टीम जांच के लिए लगाई गई है एसटीएफ भी लगाई गई है। अपराधियों को पकड़ने के लिए विकास दुबे के करीबियों के 100 से ज्यादा मोबाइल फोन सर्विलांस पर लगाए गए हैं। कई जिलों की पुलिस फोर्स मौके पर बुलाया गया है और कॉम्बिंग जारी है। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए।
मुठभेड़ में शहीद हुए पुलिसकर्मियों के नाम-
1-देवेंद्र कुमार मिश्र, सीओ बिल्हौर।
2-महेश यादव, एसओ शिवराजपुर।
3-अनूप कुमार,चौकी इंचार्ज मंधना।
4-नेबूलाल निषाद, सब इंस्पेक्टर, शिवराजपुर।
5-सुल्तान सिंह कांस्टेबल थाना चौबेपुर।
6-राहुल ,कांस्टेबल बिठूर।
7-जितेंद्र,कांस्टेबल बिठूर।
8-बबलू कांस्टेबल बिठूर।
    विकास दुबे पहले भी थाने में घुसकर राज्यमंत्री और पुलिसकर्मी सहित कई लोगों की हत्या कर चुका है।



फ़ोटो साभार एएनआई


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image