जिओमिन प्लांट में कोरोना के मामले लगातार बढ़ने के बाद प्रशासन की खुली नींद, की कार्यवाही

जबलपुर, मध्यप्रदेश, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर सुंदर लाल बर्मन की रिपोर्ट। जबलपुर जिले के गोसलपुर क्षेत्र में स्थित जिओमिन प्लांट में कोरोना के मामले लगातार बढ़ने के बाद आखिरकार प्रशासन की नींद खुल गई।
    26 जुलाई को दोपहर में जिला कलेक्टर के आदेश के बाद सिहोरा एसडीएम चन्द्र प्रकाश गोयल, तहसीलदार राकेश कुमार चौरसिया और नायब तहसीलदार राहुल मेश्राम प्लांट पहुंचे। जैसे ही प्लांट पहुंचे उन्होंने प्लांट के परिसर को सील करने के बाद अंदर प्रोडक्शन का काम बंद कराया गया। साथ ही पूरे परिसर को सैनिटाइज कराने के बाद किसी भी व्यक्ति के अनाधिकृत परिसर में प्रवेश पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है।
    कुछ दिन पहले ही जियोमिन प्लांट में तीन लोग कोरोना पॉजिटिव पाये गये थे। अब एकबार फिर सिहोरा और मझौली में कोरोना संक्रमण मिलने से लगातार बढ़ रहे कोविड-19 के मामलों को लेकर अब इस प्रकार की कार्यवाही की गई है।     
जियोमिन प्लान्ट में एक दिन में दस कर्मचारी और सिहोरा में एक युवक, कोरोना पॉजिटिव निकले।  कोरोना के लगातार बढ़ने की खबरें आ रहीं थीं और शासन प्रशासन को आगाह किया जा रहा था। लगातार कोविड-19 के मामले प्लांट में बढ़ने के बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया। सिहोरा एसडीएम, तहसीलदार और राजस्व विभाग का अमला जियोमिन प्लांट पहुंचा। 15  मामले अब तक आ चुके हैं सामने।


Popular posts
पैलानी खदान में टीला धंसने से 3 मजदूरों की मौत: विशम्भर प्रसाद निषाद ने 50-50 लाख के मुआवजे की मांग
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image