दिल्ली में बिहार के एक मजदूर परिवार की मासूम बच्ची से निर्भया जैसी दरिंदगी


नई दिल्ली। दिल्ली में बिहार के एक मजदूर परिवार की मासूम बच्ची से निर्भया जैसी दरिंदगी का मामला सामने आया है। घटना मंगलवार  की है और बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बताई गई है। बच्ची के शरीर पर गंभीर चोट के निशान हैं। पश्चिम विहार वेस्ट के पीरागढ़ी इलाके में एक 13 साल की मासूम के साथ हैवानियत का मामले वाली बच्ची कमरे में अकेली थी। इसी दौरान उसके साथ दरिंदगी हुई। विरोध करने पर न सिर्फ कैंची से उसके सिर और शरीर को गोद डाला, बल्कि अंदेशा है कि उसके साथ निर्भया जैसी वारदात को अंजाम दिया गया। खून से नहाई हुई बच्ची को मरा हुआ समझकर आरोपी वहां से फरार हो गया। इस बच्ची के साथ क्या कुछ गुजरा होगा, यह इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि काफी देर तक बेसुध हालत में कमरे में सिसकती रही। उसके बाद जैसे-तैसे वह कमरे से घिसटते हुए बाहर आई और पड़ोसी के दरवाजे को खटखटाकर इशारे से खुद की हालत बयां करते हुए फिर से बेहोश हो गई। उसके निजी अंगों से लगातार खून बह रहा था। 
    बच्ची की हालत देखकर पड़ोसी भी डर गए। तुरंत ही मामले की सूचना पुलिस को दी। पश्चिम विहार वेस्ट थाने की पुलिस समेत सीनियर अफसर भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने बच्ची को फौरन संजय गांधी अस्पताल में भर्ती कराया। उसके सिर और हिप्स में किसी धारदार हथियार से कई वार किए गए थे। बच्ची के इलाज के लिए डॉक्टरों की टीम सरगर्मी से जुटी और सिर व कटे हुए हिस्सों में टांके लगाए, हाथों हाथ एम्स रेफर कर दिया गया। मौका ए वारदात का जायजा लेकर पुलिस ने हत्या की कोशिश और पॉक्सो समेत कई धाराओं में केस दर्ज कर आरोपियों की तलाश में संभावित ठिकानों पर छापेमारी शुरू कर दी। 
   लड़की ने जो बयान दिया है, उसके आधार पर वारदात में दो लड़के शामिल थे। पुलिस को अंदेशा है कि दोनों संदिग्ध आसपास के ही हैं। सीनियर पुलिस अफसरों के मुताबिक, 13 साल की बच्ची परिवार के साथ पीरागढ़ी में किराए पर रहती है। परिवार मूल रूप से बिहार का रहनेवाला है। जिस कमरे में परिवार रहता है, वह बिल्डिंग तीन मंजिल की है, जिसमें छोटे-छोटे करीब 25 कमरे बने हुए हैं। इनमें अधिकतर आसपास की फैक्ट्रियों में लेबर का काम करते हैं। बच्ची के परिवार में माता-पिता और एक बड़ी बहन है। माता-पिता फैक्ट्री में लेबर हैं। बड़ी बहन भी काम करती है। लगभग रोजाना वह बच्ची अपने कमरे में अकेली रहती है। 
     वाकया मंगलवार शाम का है। पुलिस को करीब साढ़े पांच बजे कॉल मिली थी। आशंका है कि बच्ची के साथ करीब 4 बजे वारदात हुई है। शुरुआती जांच में दो लड़के थे। उसके साथ सेक्सुअल असॉल्ट की कोशिश हुई। बच्ची ने विरोध किया तो उसकी हत्या की कोशिश हुई। हिप्स व सिर में गंभीर चोटें हैं। एम्स में बच्ची की हालत स्थिर बनी हुई है। सूत्रों के मुताबिक, डॉक्टरी जांच में निजी अंगों में चोट भी है। पड़ोसियों ने उसके माता-पिता को हादसे की जानकारी दी। फिलहाल मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार है। पुलिस अफसर के मुताबिक, बिल्डिंग में रहने वाले सभी मौजूद और गैरमौजूद लोगों की जांच पड़ताल की गई है। आसपास के सीसीटीवी कैमरों को भी कब्जे में लिया है। आरोपी जल्दी गिरफ्त में होंगे।
    बच्ची के साथ रेप के मामले में दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी कर मामले की पूरी जानकारी मांगी है। पश्चिम विहार में 4 अगस्त को हुए रेप और हत्या के प्रयास के इस मामले पर दिल्ली महिला आयोग की चीफ स्वाति मालीवाल ने पश्चिम विहार वेस्ट पुलिस स्टेशन के एसएचओ को बुधवार को नोटिस भेजा है। आयोग ने पुलिस से एफआईआर की कॉपी, एक्शन टेकन रिपोर्ट और दोषी की गिरफ्तारी को लेकर जानकारी 8 अगस्त तक देने को कहा है। स्वाति मालीवाल ने बताया घटना की जानकारी के बाद से ही हमारी टीम बच्ची के साथ है। उसकी हालत गंभीर है। बेरहमी से उसे मारने की कोशिश की गई है। इस शर्मनाक घटना पर हमने पुलिस से जवाब मांगा है।
      आज 6 अगस्त को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल बच्ची को देखने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIMS) पहुंचे और परिवार को 10 लाख रुपये की सरकारी सहायता देने की घोषणा की।


Popular posts
पैलानी खदान में टीला धंसने से 3 मजदूरों की मौत: विशम्भर प्रसाद निषाद ने 50-50 लाख के मुआवजे की मांग
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image