मछुआरे निषादों का अपहरण कर मांगी रंगदारी

कौशाम्बी, उत्तर प्रदेश, ब्यूरो रिपोर्ट। कौशाम्बी थाना क्षेत्र के गढवा के छह निषाद मछुआरे शुक्रवार को यमुना मेँ शिकार के लिए निकले थे। वहाँ पहले से ही पुलिस की वर्दी पहनकर घात लगये बदमाशों ने मछुआरों को घेरकर बंधक बना लिया और यमुना पार चित्रकूट जनपद के मऊ में ले गए। वहां पर इन सभी निषाद मछुआरों के साथ मारपीट कर एक लाख रुपये की मांग की। अपहृत नाविकों ने उस वक्त अपने पास मौजूद तीन हजार रुपया इकट्ठा कर के दे दिया और वाकी का रुपया देने के लिए सभी मछुआरे बदमाशों के साथ वह दुबारा यमुना पार करके आए तो कौशाम्बी पुलिस ने छापा मार दिया। पुलिस ने पूंछतांछ के बाद रंगदारी का केस दर्ज़ कर लिया। 
    प्राप्त जानकारी के अनुसार गढ़वा निवासी राजनारायण, ननकू, नरोत्तम, सुनील, रामयश, जितेंद्र शुक्रवार को नाव लेकर यमुना में शिकार के लिएनिकले थे, तभी यमुना पार बरवारा, मऊ गांव के सामने पुलिस की वर्दी में पहले से घात लगाए बदमाशों ने इशारा करके मछुआरों को बुलाया। मछुआरे जैसे ही किनारे आए पुलिस वदी पहने लोगों ने उतारकर पीटना शुरू कर दिया। इसके बाद जबरन उनको मऊ लेकर गए। वहां एक कमरे में बंदकर बेरहमी से पीटा। इसके बाद एक लाख रुपये की रंगदारी मांगते हुए कहा कि वह प्रतिबंध के बाद भी यमुना में शिकार करते हैं। मार से घबराए निषादों ने तीन हजार रुपया इकट्ठा कर दिया। पुलिस की वर्दीधारी बदमाशों ने कहा कि 20 हजार रुपये से कम नहीं लेंगे।
    निषाद मछुआरों ने मोबाइल पर परिजनों से बातचीत की तो परिजनों ने भी 17 हज़ार रुपये इकट्ठा किये। इस बीच पुलिस वर्दीधारी बदमाश मछुआरों को लेकर नाव से जागापुर पंप कैनाल के सामने पहुंचे। तभी जानकारी होने पर कौशाम्बी इंस्पेक्टर हेमराज सरोज ने वहां छापा मारकर कथित पुलिसकमियों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ पर अपहृत मछुआरों ने अपने ऊपर बीती घटना की जानकारी दी। 
   निषाद मछुआरों को आहरण कर रंगदारी मंगाने वाले बदमाशों के नाम हैं- अशोक कुमार उर्फ अवधेस निवासी गिरिया खालसा थाना पिपरी, रोहित निवासी खोपा थाना सराय अकिल, रामनरेश पुत्र भोंडाल निवासी बरवार थाना मऊ जनपद चित्रकूट, बचानी लाल पुत्र थुगुला निवासी बरवार थाना मऊ जनपद चित्रकूट।


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image