उत्तर प्रदेश में चरम परअपराध- बुलंदशहर में वकील की अपहरण के बाद हत्या

खुर्जा, बुलंदशहर, एकलव्य मानव संदेश, 1 जुलाई 2020। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिला में 8 दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हुए वकील धर्मेंद्र चौधरी की लाश बरामद हुई है। बड़ी बात यह है कि वकील धर्मेंद्र चौधरी की हत्या पुलिस चौकी के पीछे की गई और पुलिस को पता तक नहीं चला। वकील के शव को आग के हवाले कर खुर्जा इलाके के एक टाइल्स के गोदाम में 8 फीट गहरे गड्ढे में दफन कर दिया गया। पुलिस ने 70 लाख रुपय के विवाद में हत्या का मुकदमा दर्ज किया है।




       एसएसपी संतोष कुमार ने पत्रकारों को बताया कि बुलंदशहर के अधिवक्ता की 25 तारीख को अधिवक्ता गुमशुदगी लिखवाई गई थी जिसमें 8 टीमें काम कर रही थीं। आसपास के जनपद और कई प्रदेशों में दबिश भी दी गई थी। शुक्रवार देर रात एक गोदाम में शव बरामद हुआ है। पैसे के लेनदेन को लेकर उनकी हत्या की गई है। मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर जांच की जा रही है।
    मृतक के भाई गजेंद्र सिंह का कहना है कि उनका भाई 25 तारीख से लापता था, जिसकी सूचना पुलिस को दे दी गई थी। उसके बाद जब उनकी डायरी से लेनदेन का पता लगा तो उनके दोस्त विक्की पर शक हुआ। इसके बाद विक्की के गोदाम से अधिवक्ता का शव बरामद हुआ है। भाई ने आरोप लगाया कि अधिवक्ता की अपहरण कर हत्या की गई है।
    उत्तर प्रदेश में जंगलराज फैलता जा रहा है। क्राइम और कोरोना कंट्रोल से बाहर है। बुलंदशहर की इस अपहरण के बाद हत्या की घटना से पहले कानपुर, गोरखपुर आदि की हर घटना में कानून व्यवस्था की सुस्ती और जंगलराज दिखाई दे रहा है।
      अपह्रत अधिवक्ता की जली लाश पुलिस ने बीती शुक्रवार की रात को बरामद की थी।
    अधिवक्ता की हत्या के बाद खुर्जा इलाके में व्याप्त तनाव को देखते हुए भारी पुलिस बल के साथ पीएसी को तैनात किया गया हैं। खुर्जा निवासी धर्मेंद्र चौधरी कोर्ट में वकालत और प्रॉपर्टी डीलर का काम करता था, जो 25 जुलाई की रात संदिग्ध परिस्थितियों में वह गायब हो गया था। अधिवक्ता के लापता होने की सूचना के बाद पुलिस विभाग में हड़कंप मचा तो मेरठ जोन के आईजी मौके पर पहुंचे। पुलिस लापता अधिवक्ता धर्मेंद्र चौधरी की तलाश खेत खलियान से लेकर जंगलों और नहरों में करती रही लेकिन कोई सुराग नहीं लगा पाई। शुक्रवार देर रात 12 बजे खुर्जा के कबाड़ी बाजार में पुलिस चौकी के ठीक पीछे एक मार्बल टाइल्स के गोदाम में पुलिस ने सूचना मिलने पर तलाशी शुरू की। खुदाई के दौरान लापता अधिवक्ता धर्मेंद्र चौधरी का शव 8 फीट गहरे टैंक में मिला। अधिवक्ता पर धारदार हथियार से वार किए गए थे और उनके शव की पहचान मिटाने के लिए आग लगा दी गई थी। हत्या के बाद पुलिस ने हत्यारोपी और उसके नौकरों को हिरासत में ले लिया है।  
   उत्तर प्रदेश सरकार पर कानून व्यवस्था को लेकर विपक्ष की तरफ से चौतरफा वार किए जा रहे हैं।


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image