14 सितम्बर को पूरे U.P. में 17 जातियों के S.C. आरक्षण के लिए दिए जायेंगे ज्ञापन

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो रिपोर्ट। 14 सितम्बर 2020 को एक बार फिर उत्तर प्रदेश के तुरैहा, गौंड, मझबार, बेलदार, तामली/पासी की पुकारू जातियों (मल्लाह, केवट, कहार, बिन्द, धींवर, धीमर, कश्यप, निषाद, गोड़िया, बाथम, मांझी, मछुआ, तुरहा, प्रजापति, कुम्हार, भर, राजभर) के परिभाषित अनुसूचित जाति के आरक्षण को लागू करने के लिए हर जिले में विभिन्न संगठनों के माध्यम से दिया जाएगा जिलाधिकारियों के माध्यम से भारत के महामहिम राष्ट्रपति जी के नाम ज्ञापन।
विशेष सूचना-ज्ञापन की कॉपी www.eklavyamanavsandesh.com और eklavyamanavsandesh.page पर 12 सितंबर 2020 तक ऑनलाइन डाऊनलोड करने के लिए उपलब्ध हो जाएगी।
  तुरैहा, गौंड, मझबार, बेलदार, तामली/पासी की पुकारू जातियों (मल्लाह, केवट, कहार, बिन्द, धींवर, धीमर, कश्यप, निषाद, गोड़िया, बाथम, मांझी, मछुआ, तुरहा, प्रजापति, कुम्हार, भर, राजभर) जातियों के सभी जागरूक व्यक्तियों, संगठनों से अपील की जाती है कि आप अपने अपने संगठनों के नाम से, इस 17 जातियों के आरक्षण के सबसे बड़े पैरोकार श्री विशम्भर प्रसाद निषाद जी (राज्यसभा सांसद) द्वारा तैयार किये जा रहे ज्ञापन को अपने-अपने जिला के जिलाधिकारी कार्यालय में जाकर सौंपने के लिए आज से ही तैयारी कर लें। अपकीं अवाज़ को भारत की संसद के उच्च सदन (राज्यसभा) में राज्य सभा सांसद श्री विशम्भर प्रसाद निषाद जी के द्वारा एकबार फिर उठाकर सोती हुई योगी-मोदी की भाजपा सरकारों को जगाया जाएगा। और आपको अपने-अपने जिला में अवाज़ को बुलंद कर इन अतिपिछड़ी जातियों के उत्थान में अपना महत्वपूर्ण योगदान देना है।


   यह कार्यक्रम किसी पार्टी या एक संगठन विशेष का नहीं है, यह इस सभी जातियों का कार्यक्रम है। संगठनों की भूमिका इन जातियों के कल्याण के लिए अपना महत्वपूर्ण सहयोग देने की रहेगी। 
यह कार्यक्रम 30 अगस्त को ऑनलाइन/वर्चुअल मीटिंग में श्री विशम्भर प्रसाद निषाद जी ( राज्यसभा सांसद) की अध्यक्षता में हुई विशेष मीटिंग में लिया गया है। आगामी 13 सितम्बर को एकबार फिर वर्चुअल मीटिंग में ज्ञापन कार्यक्रम की तैयारी की समीक्षा की जाएगी। 


  तुरैहा, गौंड, मझबार, बेलदार, तामली/पासी की पुकारू जातियों (मल्लाह, केवट, कहार, बिन्द, धींवर, धीमर, कश्यप, निषाद, गोड़िया, बाथम, मांझी, मछुआ, तुरहा, प्रजापति, कुम्हार, भर, राजभर) के आरक्षण के लिए 7 जून 2015 को गोरखपुर के कसरवल में शहीद हुए इटावा की मड़ैया दिलीप नगर के आत्माराम निषाद और श्रीमती फूलन देवी निषाद के इकलौते सुपुत्र के नाम पर बना वीर शहीद अखिलेश निषाद स्मारक ट्रस्ट भी 14 जून के इस महा आंदोलन में एकलव्य मानव संदेश के रिपोर्टरों के माध्यम से ज्ञापन देगा।
    इस खबर को ज्यादा से ज्यादा शेयर कर इन 17 जातियों के अपने अपने साथियों तक शेयर करके सोई हुई सरकारों को जगाने में सहयोग जरूर कीजिए।
धन्यवाद।



Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image