बर्खास्तगी प्रकरण-अमर सिंह पटेल अपर निजी सचिव निवर्तमान अध्यक्ष सचिवालय संघ लखनऊ

लखनऊ, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो। आज सरकार की मानसिकता पूरी तरह से दीख गयी है, पिछड़े वर्ग से एक सामान्य कृषक (कुर्मी) परिवार से तालुक रखने वाले बेहद ईमानदार व निष्ठावान अधिकारी अमर सिंह पटेल जी जिनके इतने लंबे कार्यकाल में आज तक कोई उगली नहीं उठा पाया, उनकी ईमादारी ऐसे ही आप समझ सकते हैं कि वह सचिवालय संघ के लंबे समय तक अध्यक्ष रहे वहाँ के सर्वमान्य व्यक्ति थे, उनको आज प्रदेश सरकार की तरफ से बर्खास्त कर दिया गया है, सिर्फ उनकी गलती यह थी कि उन्होंने कुछ दिन पहले गोरखपुर विश्विद्यालय की भर्तियों में जो आरक्षण का पूरी तरह से उल्लघंन हुआ था उसके खिलाफ पोस्ट कर दिया था  अब इसमें अगर देखा जाए तो सामान्यता उन्होंने कोई गलती नहीं की है, बल्कि ये उनका संविधानिक अधिकार है। उनके हटाने का सबसे बड़ा कारण यह भी है कि वह एक पिछड़े वर्ग से आते हैं।  अगर आप सभी में थोड़ा सा भी अन्याय के खिलाफ लड़ने की ताक़त बची हो तो मजबूती से सरकार पर दबाब बनाएं, वह चाहे सोशल मीडिया से हो या अपने विधायकों पर दबाब बनाएं और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर बर्खास्तगी निरस्त कराएं। यूपी में कुर्मी समाज से लगभग वर्तमान में 35 विधायक है अगर इसमें 30 भी मजबूती से प्रयास करें तो दो दिन में मुख्यमंत्री को बर्खास्तगी निरस्त करनी पड़ेगी।