बिहार विधासभा के चुनाव होंगे तीन चरणों में, 28 अक्टूबर, 3 और 7 नवंबर को मतदान, 10 नवंबर को होगी मतगणना

नई दिल्ली। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा आज 25 सितम्बर को बिहार विधानसभा चुनाव 2020 की तारीखों का ऐलान करते ए मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेसवार्ता में बताया कि बिहार चुनाव के लिए तीन चरणों में मतदान होगा। साथ ही बिहुहार में चुनाव अचार संहिता भी लागू हो गई है। 


    कोरोना संकट के बीच बिहार में होने वाला सबसे बड़ा चुनाव है,  जहां 28 अक्टूबर से शुरू होकर 07 नवंबर तक तीन चरण में विधानसभा के चुनाव होंगे। 10 नवंबर को परिणामों की घोषणा की जाएगी।
   इस तरह इस बार बिहार चुनाव की प्रक्रिया नवरात्र के पहले शुरू होगी और दिवाली से पहले वहां नई सरकार बन जाएगी। 
चुनाव कार्यक्रम एक नजर में-
पहला चरण- 28 अक्टूबर को 16 जिलों की 71 सीटों पर वोटिंग।
नोटिफिकेशन- 1 अक्टूबर  
नामांकन की अंतिम तारीख- 8 अक्टूबर।
स्क्रूटनी- 9 अक्टूबर।
नाम वापसी- 12 अक्टूबर तक।


दूसरा चरण- 3 नवंबर को 17 जिलों की 94 विधानसभा सीटों पर वोटिंग।
नोटिफिकेशन- 9 अक्टूबर।
नामांकन की अंतिम तारीख- 16 अक्टूबर।
स्क्रूटनी- 17 अक्टूबर।
नाम वापसी- 19 अक्टूबर तक।


तीसरे चरण- 7 नवंबर को 15 जिलों की 78 सीटों पर वोटिंग।
नोटिफिकेशन-13 अक्टूबर।
नामांकन की अंतिम तारीख- 20 अक्टूबर।
स्क्रूटनी- 21 अक्टूबर।
नाम वापसी- 23 अक्टूबर तक।
चुनाव परिणाम- 10 नवंबर।


कोरोना संकट के चलते भीड़भाड़ इलाके में जाने या फिर भीड़ इकट्ठा करने को लेकर गाइड लाइन जारी की गई हैं। कोरोना की वजह से एक बार में एक साथ पांच से ज्यादा लोग किसी के घर जाकर प्रचार नहीं कर पाएंगे। विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार समेत कुल पांच लोग ही डोर-टू-डोर प्रचार में हिस्सा लेंगे। पार्टियों और उम्मीदवारों को वर्चुअल चुनाव प्रचार करना होगा। कोरोना की वजह से बड़ी-बड़ी जनसभाएं नहीं की जा सकेंगी। इसके अलावा नॉमिनेशन के दौरान किसी भी उम्मीदवार के साथ दो से अधिक गाड़ियां नहीं जा सकेंगीं। 
कोरोना संक्रमण को देखते हुए 7 लाख हैंड सैनेटाइजर्स 46 लाख मास्क, 6 लाख पीपीई किट, 6 लाख फेस शील्ड और 3 लाख दस्तानों  की व्यवस्था की गई है। मतदाताओं के लिए 7.2 करोड़ दस्ताने की व्यवस्था की गई है। चुनाव आयोग के अनुसार जहां पर जरूरत होगी और मांग की जाएगी वहां पोस्टल बैलेट की व्यवस्था की जाएगी। चुनाव प्रचार सिर्फ वर्चुअल होगा और नामांकन भी ऑनलाइन भरे जा सकेंगे।
   चुनाव आयोग इस बार चुनाव के लिए कई खास इंतजाम किए हैं ताकि मतदाताओं और मतदानकर्मियों को वायरस से बचाते हुए लोकतंत्र के इस पर्व को मनाया जा सके। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि कोरोना वायरस ने हमारे जीने का तरीका बदल दिया है। सामाजिक और आर्थिक जिंदगी बदल गई है। कोरोना वायरस की वजह से दुनियभर के 70 से ज्यादा देशों में चुनावों को टाल दिया गया। कोरोना के दौर में यह पहला चुनाव है। चुनाव नागरिकों का लोकतात्रिक अधिकार है। इसके जरिए वे अपने प्रतिनिधियों का चुनाव करते हैं।
   विहार विधानसभा चुनाव का कार्यकाल 29 नवंबर को खत्म हो रहा है। पोलिंग बूथ पर मतदाताओं की संख्या घटाई गई है। एक बूथ पर अधिकतम 1000 मतदाता होंगे। नए सुरक्षा मानकों के तहत चुनाव कराए जाएंगे। बिहार में कुल 7 करोड़ 79 लाख मतदाता हैं। 3 करोड़ 39 लाख महिला मतदाता हैं। 3 करोड़ 79 लाख पुरुष मतदाता हैं। 18.87 लाख प्रवासी हैं बिहार में। इनमें से 16.6 लाख 18 सालों से वोट नहीं डाल पाए हैं। 13 लाख का नाम वोटर लिस्ट में मौजूद है, बाकी का नाम शामिल किया गया है।  
   कोरोना मरीज आखिरी समय में स्वास्थ्य कर्मियों की निगरानी में वोट डालेंगे। मतदान का समय एक घंटे के लिए बढ़ाया गया है। सुबह सात बजे से शाम 6 बजे तक वोटिंग होगी। चुनाव आयोग ने कहा कि जहां पर जरूरत होगी और मांग की जाएगी, वहां पोस्टल बैलेट की व्यवस्था की जाएगी।  नॉमिनेशन और एफिडेविट ऑनलाइन भी जमा कर सकते हैं। ऑफलाइन प्रक्रिया भी जारी रहेगी। कैंडिडेट जमानत राशि भी ऑनलाइन जमा करा सकते हैं। नॉमिनेशन फाइल करते समय दो ही लोग जा सकते हैं। वाहन भी अधिकतम दो ही होंगे। घर-घर चुनाव प्रचार की अनुमति होगी, लेकिन कैंडिडेट सहित अधिकतम 5 लोग हो सकते हैं। रोड शो की शर्तों के साथ अनुमति होगी, वाहनों का काफिला 5 गाड़ियों के बाद ब्रेक होगा। चुनाव प्रचार सिर्फ वर्चुअल होगा। 
   राजनीतिक दलों को के लिए यह अनिवार्य होगा कि वे अपने वेबसाइट पर कैंडिडेट्स के खिलाफ अपराधिक मामलों की जानकारी दें। इसके अलावा कैंडिडेट्स को अखबार में भी इसकी जानकारी देनी होगी। चुनाव में सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर कार्रवाई की जाएगी।


   विहार विधानसभा के इस चुनाव में सन ऑफ मल्लाह मुकेश सहानी की विकाशील इंसान पार्टी (VIP) पहली बार नाव चुनाव चिन्ह पर विधानसभा सभा चुनाव लड़कर अपनी ताकत दिखाने के लिए दिन रात कड़ी मेहनत कर रही है।


Popular posts
आज संसद में विशम्भर प्रसाद निषाद जी ने फिर उठाया परिभाषित SC आरक्षण का मुद्दा : सदन नहीं चलने के कारण नहीं उठा सके आज
Image
विशम्भर प्रसाद निषाद जी द्वारा पाक जेलों में बन्द भारतीय मछुआरों के बारे में पूछे गए सवाल का जबाब 6 माह बाद लिखित में दिया मंत्री ने
Image
आज फिर विशम्भर प्रसाद निषाद जी का SC प्रमाण पत्र से सम्वन्धित सवाल राज्यसभा में हंगामे की भेंट चढ़ गया
Image
25 जुलाई को वीरांगना फूलन देवी शहादत दिवस पर उत्तर प्रदेश के हज़ारों गांव से निषाद बिन्द कश्यप समाज ने भेजे परिभाषित आरक्षण लागू कराने के लिए महामहिम राष्ट्रपति जी को ऑनलाइन ज्ञापन
Image
पूरी जानकारी : कैसे भेजें 25 जुलाई 2021 को निषाद, कश्यप, बिन्द समाज की पुकारू जातियों के परिभाषित एससी आरक्षण लागू कराने के लिए राष्ट्रपति जी को ज्ञापन
Image