दवंग नहीं बनने दे रहे निषादों के गांव के लिए रास्ता, विस्थापित रहने के लिए खेतों में गड़े तम्बू

बाँदा, उत्तर प्रदेश, एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर राजबहादुर निषाद की रिपोर्ट, 14 सितम्बर 2020। बांदा जिले की तहसील बबेरु, थाना कमासिन, के ग्राम घोषण केवटन पुरवा क्षेत्र गांव में लगभग 200 सौ निषाद अपना घर छोड़कर खेतों में झुग्गी बनाकर व पन्नी के नीचे रहने को मजबूर हैं।


देखें इस पूरी वीडियो को और सुनें पीड़ितों की दास्तान




 इन परिवारों द्वारा चित्रकूट बांदा लोकसभा क्षेत्र के सांसद आर के पटेल, भाजपा जिला अध्यक्ष रामकेश निषाद व बांदा, चित्रकूट के सभी अधिकारियों एवं मुख्य पुलिस महानिदेशक तक को सूचित करने के बाद भी मामले का निपटारा नहीं हो पाया है।
   मामला रास्ते को लेकर है जिसमें निषाद परिवार रास्ते का निर्माण करवाना चाहते हैं, जिससे आवाजाही सुगम हो सके, लेकिन यादव परिवार ऐसा होने के लिए कतई राजी नहीं हैं। यहां तक की सांसद जी के निर्देश पर डीएम एसडीम मौके पर पहुंचकर 7 परिवारों को जंगल से लाकर अस्थाई गांव में रुकवाया, लेकिन अब पता चला है कि एसडीएम ही विस्थापित निषादों को धमका भी रहे हैं, जिससे उन्हें दोबारा जंगल की तरफ रहने का रुख करना पड़ा। शासन प्रशासन मौन है, दवंगो द्वारा जान से मारने की धमकी भी दी जा रही हैं।
    एकलव्य मानव संदेश ने राज्यसभा सांसद श्री विशम्भर प्रसाद निषाद जी को भी अवगत कराकर पीड़ितों की मदद के लिए कहा है। और सरकार से मांग की गई है कि निषादों के गांव के लिए तुरंत रास्ते की व्यवस्था कराये।


Popular posts
बड़ा खुलासा : पंचायत चुनाव में निषाद प्रत्याशियों को हराने के लिए डॉ. संजय कुमार निषाद ने रची साजिश-राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष।
Image
महामहिम राष्ट्रपति महोदय ने सांसद विशम्भर प्रसाद निषाद जी की 17 जातियों के परिभाषित अनुसूचित जाति आरक्षण की मांग का लिया संज्ञान
Image
दबंगों द्वारा बेरहमी से की गई पिटाई से घायल निषाद महिलाओं को फतेहपुर जनपद में क्यों नहीं मिल रहा है न्याय
Image
फतेहपुर में निषाद महिलाओं को दंबगों द्वारा मारपीट कर घायल करने की घटना का संज्ञान लेते हुए सांसद विशम्भर प्रसाद निषाद जी ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
Image
बहुत ही दुखद समाचार : हाथरस में प्रवक्ता तिलक सिंह कश्यप जी का कोरोना से हुआ निधन
Image