तीन बार के पूर्व निर्दलीय विधायक निर्वेंद्र कुमार मिश्रा की पीट-पीटकर हत्या

लखीमपुर खीरी, उत्तर प्रदेश (Lakhimpur Khiri, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट, 6 सितम्बर 2020। लखीमपुरी खीरी जिला में आपराधिक गतिविधियां चरम पर हैं। आज यहाँ जमीन के विवाद में तीन बार के पूर्व निर्दलीय विधायक निर्वेंद्र कुमार मिश्रा की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। और बेटे को भी पीट-पीटकर अधमरा कर दिया गया।
    जिले की तहसील पलिया के त्रिकोलिया में निघासन विधान सभा से तीन बार के निर्दलीय विधायक रहे निर्वेंद्र कुमार मिश्रा उर्फ मुन्ना की आज रविवार को दबंगों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। पिटाई से घायल उनके बेटे भी खतरे में बताया गया है। इस मामले में पुलिस पर दबंगों से मिलीभगत का आरोप लगाया गया है, कि हत्या के समय पुलिस मौजूद थी और मूक दर्शक बन सब होते देखती रही।
    त्रिकोलिया पढुआ बस अड्डे के मेन रोड पर पूर्व विधायक की जमीन है। इस पर विवाद के चलते मामला न्यायालय में विचाराधीन है। विवादित जमीन पर विपक्षी किशन कुमार गुप्ता रविवार को सैकड़ों लोगों के साथ कब्जा करने पहुंच गया। सूचना पूर्व विधायक भी अपने लोगों के साथ मौके पर पहुंचे। आरोप है कि कब्जा रोकने के लिए दबंगों ने पूर्व विधायक की लात-घूंसों से पिटाई कर दी। बचाव में दौड़े पूर्व विधायक के बेटे संजीव कुमार को पीटा गया। परिवार वालों ने घायल अवस्था मे दोनों को वाहन से अस्पताल पहुंचाया। अस्पताल पहुंचने से पहले ही पूर्व विधायक ने दम तोड़ दिया। पूर्व विधायक के घायल बेटे संजीव को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। 
   मृतक पूर्व विधायक के परिवार का आरोप है कि विपक्षीगण सैकड़ों हथियार से लैस लोगों को लेकर आए थे। इस घटना को पुलिस की मिलीभगत से आरोपियों ने अंजाम दिया। विधायक का शव रखकर प्रदर्शन किये जाने की खबर मिली है।


  लखीमपुर के एसपी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि जमीनी विवाद में दो पक्षों के बीच कहासुनी हो रही थी। इसी दौरान पूर्व विधायक निर्वेंद्र कुमार मिश्रा मौके पर पहुंचे और अचानक की गिर पड़े। इस पर उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image