आरक्षण मिलना किसको चहिए, मिल किसको रहा है

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो रिपोर्ट। सामान्य वर्ग को 60 प्रतिशत आरक्षण मिल रहा है। आरक्षित वर्ग के मेरिट वालो को भी सामान्य में जगह नहीं दी जाती। 85 प्रतिशत को सिर्फ 40 प्रतिशत आरक्षण, यही हैं मोदी सरकार के पिछड़े वर्ग के लिए अच्छे दिन।


(देखें इस चार्ट को)


   आज पिछड़ा वर्ग ही बीजेपी की नैया पार लगाकर अपने पैरों में खुद ही कुल्हाड़ी मार रहा है। भाजपा जातियों की गढ़ना नहीं करना चाहती है। जब जब जातिय गढ़ना की मांग की जाती है, तब तब बीजेपी इस आवाज को दबाने के लिए पाकिस्तान, मुसलमान के नाम पर ओबीसी, एससी, एसटी को घुमा कर सवर्ण वर्ग के सभी हितों को पूरा करने के लिए कोई भी मौका और चाल चलना नहीं छोड़ती है। जब तक पिछड़ा वर्ग और एससी, एसटी के लोग भाजपा सरकार से आबादी के अनुसार प्रतिनिधित्व के लिए मांग को मजबूती से नहीं करेंगे तब तक सवर्ण वर्ग देश के सभी संसाधनों पर काबिज रहेगा। इसी की मजबूती के लिए निजीकरण करके देश के सभी संसाधनों को प्राइवेट कर सवर्ण वर्ग के उद्योगपतियों को मजबूत किया जा रहा है और ओबीसी, एसटी, एसटी को मजबूर, मजदूर, अनपढ़, कमजोर बनाये रखने के लिए कभी गैस कनेक्शन, कभी लैटरीन, कभी खाद्यान्न कार्य चलाकर वोट के लिए तैयार किया जाता रहेगा, नाकि उनको सुरक्षित और गारंटेड रोजगार कार्यक्रम चलाकर मजबूत और शिक्षत बनाने के लिए ठोस योजना।


  फिर भी आरक्षण ने देश को बर्बाद कर दिया। यह धारणा का प्रचार सवर्ण वर्ग द्वारा किया जाता है।


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image