भाजपा के सांसद और विधायक निषाद वंशियों की पुकारू जातियों के परिभाषित आरक्षण की अवाज़ क्यों नहीं उठा रहे-पूंछता है एकलव्य मानव संदेश

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, एकलव्य मानव संदेश एडिटोरियल रिपोर्ट। निषाद वंश की सभी पुकारू जातियों के परिभाषित अनुसूचित जाति के आरक्षण को भाजपा की मोदी और योगी सरकार कोई कदम नहीं उठा रहीं हैं। उत्तर प्रदेश सरकार नौकरियों की घोषणा कर रही है, जिसमें सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण का लाभ सरकार द्वारा दिया जा रहा है, लेकिन निषाद वंश की मझबार, तुरैहा, गौंड, बेलदार की सभी पुकारू जातियों (मल्लाह, केवट, कहार, कश्यप, बिन्द, बाथम, रायकवार, तुरहा, गोंडिया, माझी, धींवर, धीमर आदि) को उनका परिभाषित आरक्षण योगी और मोदी जी की सरकारों द्वारा आज तक लागू नहीं किये जाने से इस समाज के लिए नौकरियों में बहुत कम स्थान ही मिलने की संभावना है। इसलिए निषाद वंश के अनुसूचित जाति के परिभाषित आरक्षण लागू कराने के अपने अभियान में एकलव्य मानव संदेश पूंछता है, कि क्या यह समाज पैर धोने और वोट रूपी नैया पार लगाने के लिए ही काम आता है भाजपा के लिए। इस समाज के भाजपा सांसद और विधायक निषाद वंशियों की पुकारू जातियों के परिभाषित आरक्षण को लागू कराने के लिए कब कदम उठवायेंगे उत्तर प्रदेश और केंद्र सरकारों से?



   अगर भाजपा के सांसद और विधायक या अन्य पदाधिकारी जिनको भाजपा में पद ही उनकी जाति के वोट को ध्यान में रखकर दिया जाता है तो ये अपनी जाति के अधिकार के लिए अवाज़ क्यों नहीं उठा रहे हैं, जब केंद्र और प्रदेश में भाजपा की सरकारें आज हैं ?
   क्या निषाद वंस की जातियों के नेता समाज के आरक्षण की आवाज़ को भाजपा द्वारा दबाए जाने के हथियार बन गए हैं?


Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image