प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से

प्रयागराज, उत्तर प्रदेश (Prayagraj, Uttar Pradesh),  एकलव्य मानव संदेश रिपोर्टर रमाकान्त निषाद की रिपोर्ट। प्रयागराज की धरती पर डॉ. संजय निषाद और भाजपा के दलालों पर फूटा निषादों का गुस्सा- खदेड़ा गांव से। 


   बृहस्पतिवार को अवैध खनन के नाम पर की गई पुलिस कार्रवाई और नाविकों की नाव तोड़े जाने तथा गरीब निषाद महिला पुरषों की पिटाई से आक्रोशित बालू मजदूर निषादों का गुस्सा शुक्रवार को फूट पड़ा। सैकड़ों की संख्या में लामबंद मजदूर गांव पहुंचे। मजदूरों ने निषाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ संजय निषाद और उनके समर्थकों तथा भाजपा नेता पीयूष रंजन निषाद को गांव से खदेड़ दिया। 


  निषादों ने गांव में रैली और सभा कर प्रशासनिक कार्रवाई का विरोध करते हुए आंदोलन की चेतवानी दी। 


  बृहस्पतिवार को दोपहर एडीएम प्रशाषन श्री विजय शंकर दुबे के नेतृत्व में भारी पुलिस बल स्टीमर व कुत्ते के साथ ठाकुरी का पूरा,बसवार घाट पर पुलिस ने बालू मजदूर निषादों पर हमला कर 30 लोगो को घायल कर दर्जनों नवें तोड़ी डालीं। प्रयागराज के प्रशाषनिक अमला में एडीएम प्रशाषन श्री विजय शंकर दुबे, एसपी यमुनापार, क्षेत्राधिकारी करछना व कई थानों की पुलिस स्टीमर, कुत्ते के साथ पैदल ठाकुरी का पूरा घाट पर पड़ी पुरानी बालू को जेसीबी से यमुना नदी में ढकेल कर, बसवार घाट पर बंधी नवों को जेसीबी से तोड़ने पर गांव वालो ने विरोध किया तो पुलिस ने लाठी चार्ज कर 30 लोगो को घायल कर दिया। 



     प्रयागराज में बालू मजदूरों का लंबे समय से आंदोलन चल रहा है लगातार मांग कर रहे हैं कि 24 जून 2019 को को उत्तर प्रदेश सरकार ने बालू खनन में नावों को प्रतिबंधित कर देने  से लाखों निषाद मजदूर बेरोजगार हो गए हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट व उत्तर प्रदेश सरकार के कई शासनादेश हैं कि नदियों में बालू का खनन बीच धारा से होनी चाहिए जिससे तटबंध व तटबंध के किनारे जीवजंतु की सुरक्षित रहें। लम्बे विरोध के बावजूद प्रयागराज प्रशाषन समस्या को हल करने के बजाय आरएसएस और भाजपा के नेता प्रशाशन से मिलकर बालू खनन का कार्य प्रारम्भ कर अवैध वसूली करते रहे हैं। 


प्रयागराज प्रशाषन के इस हमले के विरोध से मजदूरों में भारी गुस्सा है।

 बृहस्पतिवार की दोपहर बाद एडीएम प्रशासन विजय शंकर द्विवेदी की अगुवाई में नैनी कोतवाली के मोहब्बतगंज, ठकुरी का पुरवा और घूरपुर थाना क्षेत्र के बसवार गांव में यमुना घाटों पर पहुंची पुलिस टीम ने घाट पर डंप की गई हजारों टन बालू जेसीबी मशीन से नदी में फेंकवा दी थी और निषादों की कई नावों को तोड़कर यमुना नदी में डुबो दिया था। और निषाद महिलाओं और पुरुषों को बुरी तरह से मारा पीटा गया था। 


   यह योगी आदित्यनाथ जी के राम राज्य में प्रयागराज की धरती पर बड़ी संख्या में निषादों की नवें तोड़ कर डुबो दीं नदी में। जो निषाद समाज के दलालों के मुंह पर तमाचा है। योगी आदित्यनाथ नाथ जी सरकार में आए दिन निषादों की रोजी रोटी पर पुलिस की पड़ती रही है मार। जिस प्रयागराज की धारती पर नाव से निषाद ने श्री राम को पार किया था। 4 फरवरी को उसी प्रयागराज की धरती पर तोड़ी गईं बड़ी संख्या में गरीब निषादों की नवें। यह केवल नावों को ही नहीं तोड़ा गया है, निषादों के इतिहास को तोड़ा गया है। निषादों के भविष्य को नष्ट किया गया है। इसी नाव के जरिए आए दिन नदियों में आत्महत्या करने वाले लोगों को निषादों द्वारा बचाया जाता है। पुल से कूदने वाले लोगों से बचाया जाता है। नहाने आए श्रद्धालुओं को बचाया जाता है। बृहस्पतिवार को इसी नाव को योगी सरकार द्वारा तोड़ने के बाद डुबोकर पूरे निषाद समाज को  डुबोने का कार्य किया गया है। उस प्रयागराज की धरती पर, उन्हीं श्री राम के नाम के सहारे राज करने वाली भाजपा पार्टी की योगी आदित्यनाथ जी की सरकार में। यह घिनौना कार्य चौरी चौरा काण्ड के माध्यम से देश की खातिर जान गंवाने वाले केवटों की कुर्बानी के दिन किया गया है। 


निषादों के साथ वर्तमान भाजपा की योगी आदित्यनाथजी सरकार ने बहुत ही घिनौना कार्य किया है यह, इसका परिणाम आने वाले समय में भुगतना पड़ेगा इस सरकार को। 

  ये गरीब निषादों की नाव नहीं टूटी हैं, निषादों का सरकार पर से विश्वाश टूटा है। आज दिनांक 4 फरवरी 2021 निषादों के लिए किसी आपात काल से कम नहीं है। जहां एक तरफ निषाद समाज कई महीनों से भुखमरी की हालात से गुजर रहा है वहीं दूसरी तरफ प्रयागराज प्रशाशन द्वारा गरीब  लाचार निषादों के साथ दिल को झकझोर देने वाली घटना को अंजाम दिया है। प्रयागराज अंतर्गत ठाकुरी का पूरा, बसवार में आज प्रयागराज प्रशाशन द्वारा जेसीबी मशीन द्वारा उनकी नाव को चकना चूर कर दिया गया और यमुना नदी में डूबो दिया गया। यह निषादों के लिए बहुत दयनीय स्थिति है। एक नाव बनाने में लगभग एक लाख  से डेढ़ लाख लगते हैं। अब समस्या इस बात की है कि सरकार निषाद समाज को किस हालत में देखना चाहती है। पहले उनके सभी कार्यों को रोका जा चुका है, अब उनको अलग से प्रताड़ित करना संविधान के खिलाफ है। सरकार और शाशन प्रशाशन विनम्र निवेदन है कि जिन जिन गरीब लोगों की नाव छतिग्रस्ट की गई है उनको मुवावजा दिलाएं, अन्यथा वक्त सब का बदलता है निषादों का भी बदलेगा। निषाद समाज से मेरा निवेदन है कि अपनी रोजी रोटी को पाना है तो संविधान के अनुसार चलें, किसी के बहकावे में न आकर अपने हक और अधिकार के लिए स्वयं खड़े हों। क्योंकि निषादों ने सभी का साथ दिया और सभी ने छल किया। अभी भी वक्त है समय रहते अपनी हक और अधिकार की लड़ाई में शामिल हों।

   एकलव्य मानवसंदेश परिवार प्रयागराज पुलिस द्वारा बालू मजदूर निषादों पर लाठीचार्ज कर घायल करने व नाव तोड़ने की कड़ी निन्दा के साथ मांग करता है कि बालू मजदूरों पर लाठी चार्ज करने व नाव तोड़ने के आरोप में दोषियों को तत्काल सस्पेंड कर कार्यवाही की जाय, एवं बालू निषादों की क्षतिग्रस्ट नावों का मुवावजादिया जाय।


   हम समाज के मठाधीशों को बताना चाहते हैं कि हो सके तो जिनकी नाव तोड़ी गई है उनकी नाव सरकार से वापस दिलाने की कोशिश करें।

पूर्व मुख्यमंत्री और सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने एक फोटो शेयर करते हुए अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है- प्रयागराज में भाजपा सरकार ने निषाद समाज की नावें तोड़कर उनके पेट पर लात मारी है।

  भाजपा सरकार तत्काल निषाद समाज से माफ़ी माँगे और रोज़गार के लिए नयी नावें दे।

  उप्र सरकार ने डायल 100 जैसी सुविधाएं निष्क्रिय कर दी हैं व ठोको नीति के तहत अब ग़रीबों तक को निशाना बनाया जा रहा है।


  अलीगढ़, उत्तर प्रदेश। हम केवल खबरची मीडिया नहीं हैं, हम सामाजिक क्रांति के लिए कार्य करते हैं, इसलिए ऐसे महिला पुरुष साथी जो हमारे इस अभियान में साथ दे सकते हैं, वे अपने काम के साथ साथ हमारे प्रतिनिधि बनकर भी कार्य कर सकते हैं। अब एक नई पहल के अंतर्गत एकलव्य मानव संदेश के साथ जुड़ने वाले हर व्यक्ति का खुद का विज्ञापन एकबार हमारी मासिक पत्रिका में छापा जा रहा है। जिससे आपको देेेश और दुनिया में जान पहचान मिल सके। (अधिक जानकारी के लिए अंत में दिये गए मोबाइल और व्हाट्स नम्बरों पर कर सकते हैं) 

     एकलव्य मानव संदेश के प्रचारक, रिपोर्टर, ब्यूरो, ब्यूरो चीफ बनने पर आपको अपनी खबरों को प्रसारित करने के लिए प्रिंट और डिजिटल मीडिया के 10 प्लेटफार्म एक साथ मिल रहे हैं, जो इस प्रकार हैं- 

1. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी सप्ताहिक समाचार पत्र।

2. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी मासिक पत्रिका।

3. गूगल प्ले स्टोर पर ऐप - Eklavya Manav Sandesh

4. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.com

5. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.page

6. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (30 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

7. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (6 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

8. फेसबुक पेज - Eklavya Manav Sandesh

9. ट्विटर - Eklavya Manav Sandesh और Jaswant Singh Nishad

10. टेलीग्राम चैनल - Eklavya Manav Sandesh

(पूरी जानकारी इसी खबर के अंत में दी गई है, जिनको किलिक करके आप देख सकते हैं)

 एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन 28 जुलाई 1996 को अलीगढ़ महानगर के कुआरसी से दिल्ली निवासी चाचा चौधरी हरफूलसिंह कश्यप जी (वीरांगना फूलन देवी जी के संरक्षक चाचा) के कर कमलों के द्वारा दिल्ली के सरदार थान सिंह जोश के साथ किया गया था। 

  अब एकलव्य मानव संदेश साप्ताहिक समाचार पत्र के साथ- साथ अपनी मासिक पत्रिका भी प्रकाशित कर रहा है, जो अतिपिछड़ी जातियों के जन जागरण के कार्य में एकलव्य मानव संदेश के ही कार्यों को मजबूती के साथ आगे बढ़ाएगी।

    आप भी एकलव्य मानव संदेश मासिक पत्रिका को मंगाकर सामाजिक जागरूकता अभियान में सहयोग कर सकते हैं।  पत्रिका के सदस्य बनने के लिए आप इस समाचार के अंत में दिये गए नम्बरों पर सम्पर्क कर सकते हैं। 

     एकलव्य मानव संदेश का डिजिटल चैनल भी है (पूरी जानकारी इसी खबर के साथ नीचे दी जा रही है) जो डिजिटल क्रान्ति के माध्यम से देश और दुनिया में सामाजिक जागरूकता के कार्य में एक जाना माना ब्रांड बनकर उभर रहा है। 

आओ अब पत्रिकारिता के माध्यम सामाजिक एकता को मजबूत बनाएं.. 

  जिम्मेदार मीडिया की पहुंच अब सोशल मीडिया के अधिकांश साधनों के द्वारा देश और दुनिया के हर कोने में तक हो रही है, आप भी इसके साथ जूड़कर समाज को मजबूत और जागरूक कर सकते हो।

एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखने के साधन-

1. गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh ऐप डाउनलोड करने के लिए लिंकः https://goo.gl/BxpTre

2. वेवसाईटेंwww.eklavyamanavsandesh.com

www.eklavyamanavsandesh.Page

यूट्यूब चैनल- 2 हैं

Eklavya Manav Sandesh

लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg

(30.1 हजार से ज्यादा सब्सक्राइबर)

https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg

(6000 के लगभग सब्सक्राइबर)

फेसबुक पर- हमारे पेज

Eklavya Manav Sandesh

 को लाइक करके

लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/

ट्विटर पर फॉलो करें

Jaswant Singh Nishad

लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad (@JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09

एवं

लिंकःCheck out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09

Teligram chennal 

https://t.me/eklavyamanavsandesh/262

आप हमारे रिपोर्टर भी बनने

और विज्ञापन के लिए

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667

Popular posts
बाँदा में हो रहे अवैध खनन और ओवरलोडिंग पर रोक लगाने के लिए राज्यसभा सांसद विशम्भर प्रसाद जी ने मुख्यमंत्री और राज्यपाल को लिखे पत्र
Image
केवट, मल्लाह, निषाद जाति को झारखंड राज्य की अनुसूचित जाति में शामिल करने के प्रस्ताव को हेमंत सोरेन की झारखंड सरकार ने दी मंजूरी
Image
दर्दनाक: राजस्थान के पाली जिला में बंजारा विमुक्त घुमन्तु जनजाति के किसान को जिंदा जला दिया
Image
भाजपा की उल्टी गिनती शुरू: निषादों पर हुये प्रशासनिक अत्याचार के विरोध में निषाद कार्यकर्ताओं ने दिया सामूहिक रूप से त्यागपत्र
Image
23 फरवरी को मुजफ्फरनगर में 11 बजे संवैधानिक आरक्षण संघर्ष मोर्चा की आरक्षण महा पंचायत में जरूर पहुंचे
Image