कोविड_19 : जिस तरह श्मशानों में लाशें आ रही हैं, उससे मौत का आंकड़ा सरकारी रिकॉर्ड से 5-7 गुना ज्यादा ही समझें

भारत में आज कोविड मरीजों का आंकड़ा 2 लाख को पार कर गया। जिस तरह श्मशानों में लाशें आ रही हैं, उससे मौत का आंकड़ा सरकारी रिकॉर्ड से 5-7 गुना ज्यादा ही समझें। 


"महाप्राण" सूर्यकांत त्रिपाठी निराला ने 1918 में फैली दुनिया की सबसे बड़ी महामारी स्पैनिश फ्लू का ज़िक्र करते हुए लिखा है- गंगा के तट पर खड़ा हूं। नदी में लाशों का उफ़ान है। खबर मिली है कि पत्नी नहीं रहीं। बड़े भाई और उसके सबसे बड़े बेटे ने भी दम तोड़ दिया है। 

कोविड और स्पेनिश फ्लू में बड़ी समानता है। दोनों महामारियों को शुरू में छिपाया गया। भारत में पहले विश्वयुद्ध में भाग लेकर जहाज से लौटी सेना इसे यहां लेकर आई और दो साल में 1 करोड़ 20 लाख जिंदगियां लील गई। 

आज 100 साल बाद वही स्थिति है। तब का भारत गांव में बसता था, सो मौत ज़्यादा हुई। लेकिन गंगा आज भी बह रही है, लोग बेखौफ नहा रहे हैं। 

स्पैनिश फ्लू से इतनी व्यापक तबाही के लिए लोगों ने ब्रिटिश सरकार को दोष दिया। एक तो अकाल और फिर महामारी। 

क्या आज भारत में भुखमरी नहीं है? 22 करोड़ सरकारी गरीबों के साथ उन ग़रीबों को भी गिनें, जो बीते 7 साल में सब-कुछ लुटा बैठे। 

लगभग 40 करोड़ आबादी आज भूखे पेट है। मानव निर्मित इस अकाल से पीड़ित लोगों को कोविड ने अभी छुआ नहीं है- शुक्र मनाइए। 

लेकिन, बीते 100 साल में एक-दूसरे को कोसने के सिवा हमने सीखा क्या? अस्पताल तब भी नहीं थे, आज भी नहीं हैं। संसाधन तब भी नहीं थे, आज भी कम हैं। 

वो तो भला हो कांग्रेस की उन सरकारों का, जिन्होंने देश में स्वास्थ्य सेवाओं का ढांचा खड़ा किया। वरना, कोई बता सकता है कि नरेंद्र मोदी के स्मार्ट शहरों में अस्पताल, प्रयोगशालाएं और ऑक्सीजन प्लांट कहाँ हैं? 

भारत के स्मार्ट शहरों में लोग बिना ऑक्सीजन तड़पकर मर रहे हैं। दर्जनों श्मशान बनाने पड़ रहे हैं, जिनका मास्टर प्लान में कोई ज़िक्र नहीं। एम्बुलेंस नहीं तो लोग मरीजों को ऑटो, बाइक और पैदल भी लेकर आ रहे हैं।

निराला ने स्पैनिश फ्लू की विभीषिका को अपनी आंखों से देखा। विनाश के आगे सृजन होता है। निराला कवि बन गए, महाप्राण हो गए। 

महात्मा गांधी ने अपनी बहू और पोते को खोया और अपने आश्रम के बाहर थूकी गई बलगम को खुद साफ करने लगे। 

हमारे समाज ने क्या सीखा? इसी समाज से निकले और देश पर राज कर रहे नेताओं ने क्या सीखा? आज स्पैनिश फ्लू के 100 साल बाद भी मौजूदा सरकार और ब्रिटिश हुकूमत में क्या फ़र्क़ नज़र आता है? इस पर कोई सवाल क्यों नहीं उठा रहा है? 

एक अनुमान के अनुसार स्पैनिश फ्लू ने भारत की 6% आबादी को खत्म कर दिया था। रूसी तानाशाह स्टालिन ने कहा था- एक मौत त्रासदी है और लाखों मौत सिर्फ एक आंकड़ा। 

और देश लगातार बढ़ते मौत के आंकड़े पर स्तब्ध है। 1920 में भारत की भूखी, मज़लूम जनता ब्रिटिश हुकूमत के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतर आई थी, जिससे आजादी की लड़ाई को बड़ी ताकत मिली। 

आज कोरोना से जूझती भरपेट जनता घरों में दुबकी बैठी है। मौत एक आंकड़ा है।

ये वही भरपेट समाज है, जो चुनाव पर जब वोट डालने निकलता है तब उसे सफेद टोपी में मुल्ले दिखते हैं। नफ़रत का वायरस जागता है तो उंगली धर्म के निशान पर जाकर रुकती है। 

फिर अस्पतालों, ऑक्सीजन, डॉक्टरों की मनमानी और सरकारों की नपुंसकता पर क्यों कोसते हो भाई?

आपने कब अस्पताल, स्वास्थ्य सेवाओं, स्कूल, मुफ़्त पीने का पानी, साफ हवा और अपराध मुक्त समाज के लिए वोट दिया है? 

आपने तो जाति-बिरादरी, धर्म और अपना फायदा देखकर ही वोट दिया है। पिछले दो बार से आप एक मूर्ख, झूठे और फांदेबाज़ को वोट देते आ रहे हैं, जिसने आपको सिर्फ ख़्वाब दिखाए। 

स्पैनिश फ्लू के दौरान भारत का आर्थिक विकास माइनस 10.8 था। पिछले साल जब यह माइनस 23 पर पहुंच गया था तो समाज ने क्या किया? 

क्या शादियों में रौनक कम हुई? क्या गाड़ी, बंगला, पार्टी, उत्सवों में कोई कमी आई? 

मार्कण्डेय काटजू साहेब 95% आबादी को मूर्ख बताते हैं। मैं भारत की 99% आबादी को धूर्त मानता हूं। 

इसीलिए मैं मौजूदा विनाश के बाद सृजन की बिल्कुल उम्मीद नहीं करता। मुझे किसी "महाप्राण" का इंतज़ार नहीं है। 

   रिटायर्ड जिला जज ने पत्र लिखकर बयां की अपनी पीड़ा।

गुड न्यूज!! 

सम्पूर्ण निषाद वंश के साथ - साथ शोषित वर्ग की मजबूत अवाज़ अप्रैल 2021 की एकलव्य मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका तैयार हो चुकी है, आप भी पत्रिका मंगाकर समाज को जागरूक एवं चेतनशील बनाने में सहयोग कर सकते हो। आज ही पत्रिका मंगाने के लिए संपर्क करें। 

    एकलव्य मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका (अप्रैल 2021 का अंक) की एक कॉपी केवल 35 रुपया में साधारण डाक से और 5 कॉपी रजिस्टर्ड डाक पार्सल खर्च सहित केवल 175 रुपया में पूरे देश में हर जगह मंगाने के लिए 

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667

नोट- आपका अपना पैसा

पेटीएम,

गूगल पे, 

फोन पे

से 9219506267 पर ऑनलाइन भेज सकते हैं।

एकलव्य मानव संदेश

खबरची मीडिया नहीं हैं, हम सामाजिक क्रांति के लिए कार्य करते हैं, इसलिए ऐसे महिला पुरुष साथी जो हमारे इस अभियान में साथ दे सकते हैं, वे अपने काम के साथ साथ हमारे प्रतिनिधि बनकर भी कार्य कर सकते हैं। अब एक नई पहल के अंतर्गत एकलव्य मानव संदेश के साथ जुड़ने वाले हर व्यक्ति का खुद का विज्ञापन एकबार हमारी मासिक पत्रिका में छापा जा रहा है। जिससे आपको देेेश और दुनिया में जान पहचान मिल सके। (अधिक जानकारी के लिए अंत में दिये गए मोबाइल और व्हाट्स नम्बरों पर कर सकते हैं) 

     एकलव्य मानव संदेश के प्रचारक, रिपोर्टर, ब्यूरो, ब्यूरो चीफ बनने पर आपको अपनी खबरों को प्रसारित करने के लिए प्रिंट और डिजिटल मीडिया के 10 प्लेटफार्म एक साथ मिल रहे हैं, जो इस प्रकार हैं- 

1. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी सप्ताहिक समाचार पत्र।

2. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी मासिक पत्रिका।

3. गूगल प्ले स्टोर पर ऐप - Eklavya Manav Sandesh

4. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.com

5. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.page

6. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (30 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

7. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (6 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

8. फेसबुक पेज - Eklavya Manav Sandesh

9. ट्विटर - Eklavya Manav Sandesh और Jaswant Singh Nishad

10. टेलीग्राम चैनल - Eklavya Manav Sandesh

(पूरी जानकारी इसी खबर के अंत में दी गई है, जिनको किलिक करके आप देख सकते हैं) 

 एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन 28 जुलाई 1996 को अलीगढ़ महानगर के कुआरसी से दिल्ली निवासी चाचा चौधरी हरफूलसिंह कश्यप जी (वीरांगना फूलन देवी जी के संरक्षक चाचा) के कर कमलों के द्वारा दिल्ली के सरदार थान सिंह जोश के साथ किया गया था। 

  अब एकलव्य मानव संदेश साप्ताहिक समाचार पत्र के साथ- साथ अपनी मासिक पत्रिका भी प्रकाशित कर रहा है, जो अतिपिछड़ी जातियों के जन जागरण के कार्य में एकलव्य मानव संदेश के ही कार्यों को मजबूती के साथ आगे बढ़ाएगी।

    आप भी एकलव्य मानव संदेश मासिक पत्रिका को मंगाकर सामाजिक जागरूकता अभियान में सहयोग कर सकते हैं।  पत्रिका के सदस्य बनने के लिए आप इस समाचार के अंत में दिये गए नम्बरों पर सम्पर्क कर सकते हैं। 

     एकलव्य मानव संदेश का डिजिटल चैनल भी है (पूरी जानकारी इसी खबर के साथ नीचे दी जा रही है) जो डिजिटल क्रान्ति के माध्यम से देश और दुनिया में सामाजिक जागरूकता के कार्य में एक जाना माना ब्रांड बनकर उभर रहा है। 

आओ अब पत्रिकारिता के माध्यम सामाजिक एकता को मजबूत बनाएं.. 

  जिम्मेदार मीडिया की पहुंच अब सोशल मीडिया के अधिकांश साधनों के द्वारा देश और दुनिया के हर कोने में तक हो रही है, आप भी इसके साथ जूड़कर समाज को मजबूत और जागरूक कर सकते हो।

एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखने के साधन-

1. गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh ऐप डाउनलोड करने के लिए लिंकः https://goo.gl/BxpTre

2. वेवसाईटें- www.eklavyamanavsandesh.com

www.eklavyamanavsandesh.Page

यूट्यूब चैनल- 2 हैं

Eklavya Manav Sandesh

लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg

(30.5 हजार से ज्यादा सब्सक्राइबर)

https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg

(6400 से ज्यादा सब्सक्राइबर)

फेसबुक पर- हमारे पेज

Eklavya Manav Sandesh

 को लाइक करके

लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/


ट्विटर पर फॉलो करें

Jaswant Singh Nishad

लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad (@JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09

एवं

लिंकःCheck out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09


Teligram chennal 


https://t.me/eklavyamanavsandesh/262


आप हमारे रिपोर्टर भी बनने

और विज्ञापन के लिए

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667


 मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका तैयार हो चुकी है, आप भी पत्रिका मंगाकर समाज को जागरूक एवं चेतनशील बनाने में सहयोग कर सकते हो। आज ही पत्रिका मंगाने के लिए संपर्क करें। 


    एकलव्य मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका (अप्रैल 2021 का अंक) की एक कॉपी केवल 35 रुपया में साधारण डाक से और 5 कॉपी रजिस्टर्ड डाक पार्सल खर्च सहित केवल 175 रुपया में पूरे देश में हर जगह मंगाने के लिए 

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667

नोट- आपका अपना पैसा 

पेटीएम,

गूगल पे, 

फोन पे

से 9219506267 पर ऑनलाइन भेज सकते हैं।



एकलव्य मानव संदेश

खबरची मीडिया नहीं हैं, हम सामाजिक क्रांति के लिए कार्य करते हैं, इसलिए ऐसे महिला पुरुष साथी जो हमारे इस अभियान में साथ दे सकते हैं, वे अपने काम के साथ साथ हमारे प्रतिनिधि बनकर भी कार्य कर सकते हैं। अब एक नई पहल के अंतर्गत एकलव्य मानव संदेश के साथ जुड़ने वाले हर व्यक्ति का खुद का विज्ञापन एकबार हमारी मासिक पत्रिका में छापा जा रहा है। जिससे आपको देेेश और दुनिया में जान पहचान मिल सके। (अधिक जानकारी के लिए अंत में दिये गए मोबाइल और व्हाट्स नम्बरों पर कर सकते हैं) 



     एकलव्य मानव संदेश के प्रचारक, रिपोर्टर, ब्यूरो, ब्यूरो चीफ बनने पर आपको अपनी खबरों को प्रसारित करने के लिए प्रिंट और डिजिटल मीडिया के 10 प्लेटफार्म एक साथ मिल रहे हैं, जो इस प्रकार हैं- 

1. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी सप्ताहिक समाचार पत्र।

2. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी मासिक पत्रिका।

3. गूगल प्ले स्टोर पर ऐप - Eklavya Manav Sandesh

4. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.com

5. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.page

6. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (30 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

7. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (6 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

8. फेसबुक पेज - Eklavya Manav Sandesh

9. ट्विटर - Eklavya Manav Sandesh और Jaswant Singh Nishad

10. टेलीग्राम चैनल - Eklavya Manav Sandesh

(पूरी जानकारी इसी खबर के अंत में दी गई है, जिनको किलिक करके आप देख सकते हैं) 


 एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन 28 जुलाई 1996 को अलीगढ़ महानगर के कुआरसी से दिल्ली निवासी चाचा चौधरी हरफूलसिंह कश्यप जी (वीरांगना फूलन देवी जी के संरक्षक चाचा) के कर कमलों के द्वारा दिल्ली के सरदार थान सिंह जोश के साथ किया गया था। 

  अब एकलव्य मानव संदेश साप्ताहिक समाचार पत्र के साथ- साथ अपनी मासिक पत्रिका भी प्रकाशित कर रहा है, जो अतिपिछड़ी जातियों के जन जागरण के कार्य में एकलव्य मानव संदेश के ही कार्यों को मजबूती के साथ आगे बढ़ाएगी।

    आप भी एकलव्य मानव संदेश मासिक पत्रिका को मंगाकर सामाजिक जागरूकता अभियान में सहयोग कर सकते हैं।  पत्रिका के सदस्य बनने के लिए आप इस समाचार के अंत में दिये गए नम्बरों पर सम्पर्क कर सकते हैं। 

     एकलव्य मानव संदेश का डिजिटल चैनल भी है (पूरी जानकारी इसी खबर के साथ नीचे दी जा रही है) जो डिजिटल क्रान्ति के माध्यम से देश और दुनिया में सामाजिक जागरूकता के कार्य में एक जाना माना ब्रांड बनकर उभर रहा है। 

आओ अब पत्रिकारिता के माध्यम सामाजिक एकता को मजबूत बनाएं.. 

  जिम्मेदार मीडिया की पहुंच अब सोशल मीडिया के अधिकांश साधनों के द्वारा देश और दुनिया के हर कोने में तक हो रही है, आप भी इसके साथ जूड़कर समाज को मजबूत और जागरूक कर सकते हो।

एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखने के साधन-

1. गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh ऐप डाउनलोड करने के लिए लिंकः https://goo.gl/BxpTre

2. वेवसाईटेंwww.eklavyamanavsandesh.com

www.eklavyamanavsandesh.Page

यूट्यूब चैनल- 2 हैं

Eklavya Manav Sandesh

लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg

(30.5 हजार से ज्यादा सब्सक्राइबर)

https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg

(6400 से ज्यादा सब्सक्राइबर)

फेसबुक पर- हमारे पेज

Eklavya Manav Sandesh

 को लाइक करके

लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/

ट्विटर पर फॉलो करें

Jaswant Singh Nishad

लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad (@JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09

एवं

लिंकःCheck out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09

Teligram chennal 

https://t.me/eklavyamanavsandesh/262

आप हमारे रिपोर्टर भी बनने

और विज्ञापन के लिए

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667



Popular posts
पढ़ें और समझें : 25 जुलाई 2021 को कैसे भेजें निषाद, कश्यप, बिन्द समाज की पुकारू जातियों के परिभाषित एससी आरक्षण लागू कराने के लिए राष्ट्रपति जी को ज्ञापन
Image
पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों, बढ़ते स्विस बैंकों में भारतीयों के धन पर मोदी सरकार को राज्यसभा में घेरा विशम्भर प्रसाद निषाद ने
Image
मेरी शेरनी बेटी की हत्या करवाने वाली पार्टी बीजेपी के सहयोगी का पैसा नहीं चाहिए मुझे- मूला देवी
Image
आज अयाह शाह विधानसभा क्षेत्र में मा. विशम्भर प्रसाद निषाद जी का 59 वां जन्मदिन बड़ा कार्यक्रम करके मनाएंगे कार्यकर्ता
Image
पूर्व मंत्री मनोहर लाल जी की प्रतिमा के अनावरण के माध्यम से 2022 के चुनाव जीतने के लिए अखिलेश यादव ने किया चुनाव अभियान का श्रीगणेश
Image