टुंडला में निषाद जयन्ती पर रचा नया इतिहास: अखिलेश यादव ने लगाई निषादों की देवी सियर देवी मंदिर में 2022 में सरकार बनाने के लिए अरदास

टुंडला, फिरोजाबाद, उत्तर प्रदेश (Tundla, Firozabad, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने टुंडला विधानसभा के निषाद बहुल्य क्षेत्र में निषादों की देवी के रूप में मान्यता प्राप्त देवी "सियर देवी के मंदिर में महाराजा गुह्यराज निषादराज महाराज एवं महर्षि कश्यप जी की जयंती पर नेजा (पूजा का झण्डा) चढ़ाकर सियर देवी का आशीर्वाद मांगा और प्रार्थना की 2022 में उत्तर प्रदेश से समाज विरोधी, देश विरोधी, गरीब विरोधी, किसान विरोधी, निषादों के आरक्षण विरोधी सरकार को उखाड़ फेंक कर दुबारा से समाजवादी पार्टी की जन हितैषी, लोक कल्याणकारी, संविधान की रक्षक सरकार बनाने के लिए उनको मां आशीर्वाद दे, और निषादों को इस कार्य में सहयोग करने के लिए सद्बुद्धि दे। 


   समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने 5 अप्रैल को फिरोजाबाद की तहसील टुण्डला के ग्राम कोट कसौदी, रसूलाबाद में निषाद समाज की कुलदेवी सीयर माता मंदिर में दर्शन कर नेजा (ध्वज पताका) चढ़ाकर हवन पूजन किया। श्री अखिलेश यादव ने मंदिर के समीप स्थित महाराजा निषादराज गुह्य की प्रतिमा पर माल्यार्पण भी किया। 

    सर्वश्री पूर्व केन्द्रीय मंत्री रामजी लाल सुमन, पूर्व सांसद अक्षय यादव एवं तेज प्रताप यादव, श्री आनंद निषाद, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राजपाल कश्यप, उदयवीर सिंह, दिलीप यादव सदस्य विधान परिषद, ओम प्रकाश वर्मा एवं राकेश बाबू पूर्व विधायक, बी.पी.यादव जिलाध्यक्ष फिरोजाबाद सहित सैकड़ों लोगों ने श्री यादव का स्वागत कर निषाद समाज की कुलदेवी का दर्शन करने के लिए आभार प्रकट किया।

    इस अवसर पर संजय यादव, अंशू रानी निषाद, मेला कमेटी अध्यक्ष कपूर चंद निषाद, गोरख निषाद, नंद किशोर कश्यप, राजेन्द्र राठौर सहित अन्य लोग भी कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

    श्री अखिलेश यादव ने कहा कि निषाद समाज का प्रकृति से गहरा रिश्ता है। मानव सभ्यता और संस्कृति के क्रमिक विकास का यह समाज साक्षी रहा है। नदियों से यह समाज भावनात्मक रूप से जुड़ा है। श्री यादव ने निषाद समाज की आस्था का केन्द्र माता सीयर देवी की पूजा कर प्रदेश में खुशहाली और समृद्धि की कामना किया।

    श्री यादव ने ऋषि-मुनियों में श्रेष्ठ महर्षि कश्यप एवं श्रृंगवेरपुर के राजा निषादराज गुह्य की जयंती पर उन्हें नमन करते हुए कहा कि दोनों का जीवनदर्शन मानवता के लिए प्रेरणादायक है।

    समाजवादी पार्टी के प्रदेश कार्यालय लखनऊ सहित प्रदेश के विभिन्न जनपद कार्यालयों में भी महर्षि कश्यप और महाराजा निषादराज गुह्य की जयंती मनाई गई। उनके चित्रों पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित की गई।

    समाजवादी पार्टी कार्यालय लखनऊ में इस अवसर पर सर्वश्री राजेन्द्र चौधरी पूर्व कैबिनेट मंत्री, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, मोहम्मद जावेद पूर्व सांसद, अरविन्द कुमार सिंह, रामवृक्ष सिंह यादव एवं दिलीप यादव सदस्य विधान परिषद, पूर्व सांसद फूलन देवी की बहन श्रीमती रूकमणी निषाद, अरविन्द गिरि, विजय सिंह, राम सागर यादव, मधुकर त्रिवेदी, मणेन्द्र मिश्रा, जितेन्द्र वर्मा ‘जीतू‘, लौटन राम निषाद ने श्रद्धासुमन अर्पित किए। कार्यक्रम में किशन दीक्षित, रहमत अली, रामकृष्ण गुप्ता, महेन्द्र यादव, दीपक दीप चौरसिया, अजीत पाल सोनू, लालजी क्रांतिकारी, सर्वजीत, शिवा निषाद बिठूर, अभिजीत यादव, वीरू पाल, सतीश गौतम आदि की उपस्थिति उल्लेखनीय रही। 

    आपको पता होना चाहिए उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा निषाद वंश का वोट करीब 12 प्रतिशत है लेकिन अभी यह वोट बैंक के रूप में एकजुट नहीं हो पा रहा है। उत्तर प्रदेश में भाजपा ने राम के नाम पर इस वोट को सबसे ज्यादा लूटा है और सरकार बनाने के बाद इनके अधिकारों पर एक प्रकार से डाका ही डाला है। 


  उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी ही एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसने इस समाज के अनुसूचित जाति के आरक्षण की मांग को पूरा करने के लिए 4 बार प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा था और 2 बार अनुसूचित जाति का आरक्षण (2005 और 2016 में) पास करके लागू भी किया था और 1993 में बालू खनन, नौका फेरी घाट और मछली व्यवसाय में पूरा आरक्षण दिया था, लेकिन बसपा और भाजपा सरकारों ने इन अधिकारों पर कैंची चला कर राम को पार लगाने वाले इस गरीब और ईमानदार समाज के साथ धोखा दिया है। 

समाजवादी पार्टी ने ही वीरांगना फूलन देवी जी को 20 जनवरी 1994 को लखनऊ के बेगम हजरत महल पार्क में आयोजित निषाद वंश के विशाल रैली में तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री मुलायम सिंह यादव जी के द्वारा सभी केश वापिस लेकर रिहाई करने ल आदेश दिए थे और 3 बार मिर्जापुर भदोही सीट से चुनाव लड़ाया जिसमें 2 बार फूलन देवी जी को विजय प्राप्त हुई थी और अटल बिहारी वाजपेयी जी की केंद्र सरकार के मानसून सत्र के दौरान शेर सिंह राणा द्वारा हत्या कर दी गई थी। और आज मोदी और योगी आदित्यनाथ जी की सरकारों की बदौलत हत्यारा छुट्टा घूम रहा है।


अब 2022 में निषादों के वोट के लिए सभी दल अभी से प्रयास कर रहे हैं।  


कांग्रेस की नेता प्रियंका गांधी ने इस समाज को लुभाने के लिए नदी यात्रा कार्यक्रम चला था। और भाजपा राम को पार लगाने के नाम पर हिंदुत्व के सहारे अधिकारों पर धोखा दे रही है। लेकिन गोरखपुर के जयप्रकाश निषाद को राज्यसभा में ड़ेढ साल के लिए भेज कर वोटों के लिए डोरा डाल रही है।

 अखिलेश यादव ने निषाद जयन्ती पर निषाद बहुल्य क्षेत्र में कार्यक्रम करके इतिहास में बड़ा संदेश दिया है, जिसका लाभ सपा को 2022 में जरूर मिलेगा। 


   सपा के मुखिया अखिलेश यादव जी के साथ पिछड़ा वर्ग मोर्चा सपा के प्रदेश अध्यक्ष और एमलसी डॉ. राजपाल कश्यप भी मौजूद थे। 


  

गुड न्यूज!! सम्पूर्ण निषाद वंश के साथ - साथ शोषित वर्ग की मजबूत अवाज़ अप्रैल 2021 की एकलव्य मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका तैयार हो चुकी है, आप भी पत्रिका मंगाकर समाज को जागरूक एवं चेतनशील बनाने में सहयोग कर सकते हो। आज ही पत्रिका मंगाने के लिए संपर्क करें।

    एकलव्य मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका (अप्रैल 2021 का अंक) की एक कॉपी केवल 35 रुपया में साधारण डाक से और 5 कॉपी रजिस्टर्ड डाक पार्सल खर्च सहित केवल 175 रुपया में पूरे देश में हर जगह मंगाने के लिए 

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667

नोट- आपका अपना पैसा 

पेटीएम,

गूगल पे, 

फोन पे

से 9219506267 पर ऑनलाइन भेज सकते हैं।

एकलव्य मानव संदेश

खबरची मीडिया नहीं हैं, हम सामाजिक क्रांति के लिए कार्य करते हैं, इसलिए ऐसे महिला पुरुष साथी जो हमारे इस अभियान में साथ दे सकते हैं, वे अपने काम के साथ साथ हमारे प्रतिनिधि बनकर भी कार्य कर सकते हैं। अब एक नई पहल के अंतर्गत एकलव्य मानव संदेश के साथ जुड़ने वाले हर व्यक्ति का खुद का विज्ञापन एकबार हमारी मासिक पत्रिका में छापा जा रहा है। जिससे आपको देेेश और दुनिया में जान पहचान मिल सके। (अधिक जानकारी के लिए अंत में दिये गए मोबाइल और व्हाट्स नम्बरों पर कर सकते हैं) 



     एकलव्य मानव संदेश के प्रचारक, रिपोर्टर, ब्यूरो, ब्यूरो चीफ बनने पर आपको अपनी खबरों को प्रसारित करने के लिए प्रिंट और डिजिटल मीडिया के 10 प्लेटफार्म एक साथ मिल रहे हैं, जो इस प्रकार हैं- 

1. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी सप्ताहिक समाचार पत्र।

2. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी मासिक पत्रिका।

3. गूगल प्ले स्टोर पर ऐप - Eklavya Manav Sandesh

4. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.com

5. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.page

6. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (30 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

7. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (6 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

8. फेसबुक पेज - Eklavya Manav Sandesh

9. ट्विटर - Eklavya Manav Sandesh और Jaswant Singh Nishad

10. टेलीग्राम चैनल - Eklavya Manav Sandesh

(पूरी जानकारी इसी खबर के अंत में दी गई है, जिनको किलिक करके आप देख सकते हैं) 


 एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन 28 जुलाई 1996 को अलीगढ़ महानगर के कुआरसी से दिल्ली निवासी चाचा चौधरी हरफूलसिंह कश्यप जी (वीरांगना फूलन देवी जी के संरक्षक चाचा) के कर कमलों के द्वारा दिल्ली के सरदार थान सिंह जोश के साथ किया गया था। 

  अब एकलव्य मानव संदेश साप्ताहिक समाचार पत्र के साथ- साथ अपनी मासिक पत्रिका भी प्रकाशित कर रहा है, जो अतिपिछड़ी जातियों के जन जागरण के कार्य में एकलव्य मानव संदेश के ही कार्यों को मजबूती के साथ आगे बढ़ाएगी।

    आप भी एकलव्य मानव संदेश मासिक पत्रिका को मंगाकर सामाजिक जागरूकता अभियान में सहयोग कर सकते हैं।  पत्रिका के सदस्य बनने के लिए आप इस समाचार के अंत में दिये गए नम्बरों पर सम्पर्क कर सकते हैं। 

     एकलव्य मानव संदेश का डिजिटल चैनल भी है (पूरी जानकारी इसी खबर के साथ नीचे दी जा रही है) जो डिजिटल क्रान्ति के माध्यम से देश और दुनिया में सामाजिक जागरूकता के कार्य में एक जाना माना ब्रांड बनकर उभर रहा है। 

आओ अब पत्रिकारिता के माध्यम सामाजिक एकता को मजबूत बनाएं.. 

  जिम्मेदार मीडिया की पहुंच अब सोशल मीडिया के अधिकांश साधनों के द्वारा देश और दुनिया के हर कोने में तक हो रही है, आप भी इसके साथ जूड़कर समाज को मजबूत और जागरूक कर सकते हो।

एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखने के साधन-

1. गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh ऐप डाउनलोड करने के लिए लिंकः https://goo.gl/BxpTre

2. वेवसाईटेंwww.eklavyamanavsandesh.com

www.eklavyamanavsandesh.Page

यूट्यूब चैनल- 2 हैं

Eklavya Manav Sandesh

लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg

(30.3 हजार से ज्यादा सब्सक्राइबर)

https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg

(6200 के लगभग सब्सक्राइबर)

फेसबुक पर- हमारे पेज

Eklavya Manav Sandesh

 को लाइक करके

लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/

ट्विटर पर फॉलो करें

Jaswant Singh Nishad

लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad (@JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09

एवं

लिंकःCheck out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09

Teligram chennal 

https://t.me/eklavyamanavsandesh/262

आप हमारे रिपोर्टर भी बनने

और विज्ञापन के लिए

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667