जेल प्रशासन ने नहीं मिलने दिया समाजवादी नेताओं से, बैरंग वापस आना पड़ा, पार्टी कार्यालय में प्रेस कर रिहा करने की मांग की

चित्रकूट, उत्तर प्रदेश (Chitrakoot, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश (Eklavya Manav Sandesh) ब्यूरो रिपोर्ट। जेल प्रशासन ने नहीं मिलने दिया समाजवादी नेताओं से, बैरंग वापस आना पड़ा, पार्टी कार्यालय में प्रेस कर रिहा करने की मांग की।


समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि मंडल के साथ चित्रकूट के जिला कारागार में जिला अध्यक्ष अनुज यादव सहित सभी साथियों से मिलने गए परन्तु तानाशाही सरकार के इसारे पर प्रशासन ने मेन गेट ही बंद कर दिया और नहीं मिलने दिया। प्रतिनिधि मंडल में  सांसद श्री विशंभर प्रसाद निषाद, एमएलसी श्री रमेश मिश्रा एमएलसी डॉ. मान सिंह यादव, श्री वीर सिंह पटेल, श्री निर्भय सिंह पटेल, व शमीम बांदवी आदि रहे।







  महात्मा ज्योतिबा राव फूले भारत के महान व्यक्तित्वों में से एक हैं। वे एक महान समाज सुधारक, लेखक, दार्शनिक, विचारक, सामाजिक क्रान्तिकारी के साथ अनन्य प्रतिभाओं के धनी थे। आनका जन्म 11 अप्रैल 1827 ई. को तात्कालिक ब्रिटिश भारत के खानवाडी (पुणे) महाराष्ट्र में हुआ था। इनकी माता का नाम चिमनाबाई और पिता का नाम गोविंदराव था। इनकी मात्र एक वर्ष की अवस्था में ही इनकी माता का स्वर्गवास हो गया। इसके बाद इनके पालन पोषण के लिए सगुणाबाई नामक एक दाई को लगाया गया। इन्हें महात्मा फुले और ज्यतिबा फुले के नाम से भी जाना जाता है। इनका परिवार कई पीढ़ी पहले सतारा से आकर यहाँ बसा था। यहाँ आकर इन्होंने फूलों का काम शुरू किया और उससे गजरा व माला इत्यादि बनाने का काम शुरू किया। इसलिए ये ‘फुले’ के नाम से जाने गए।  


     इन्होंने प्रारंभ में मराठी भाषा में शिक्षा प्राप्त की। परन्तु बाद में जाति भेद के कारण बीच में ही इनकी पढ़ाई छूट गयी। बाद में 21 वर्ष की अवस्था में इन्होंने अंग्रेजी भाषा में मात्र 7 वीं कक्षा की पढ़ाई पूरी की। इनका विवाह सन् 1840 ईo में साबित्री बाई फुले से हुआ। ये बाद में स्वयं एक प्रसिद्ध स्वयंसेवी महिला के रूप में सामने आयीं। स्त्री शिक्षा, वंचितों और  अछूतों को शिक्षा का अधिकार दिलाने के अपने उद्देश्य में दोनों पति-पत्नी ने साथ मिलकर कार्य किया।

      शिक्षा के क्षेत्र में औपचारिक रूप से कुछ करने के उद्देश्य से इन्होने सन् 1848 ई. में एक स्कूल खोला। स्त्री शिक्षा और उनकी दशा सुधारने के क्षेत्र में यह पहला कदम था। परन्तु इसके बाद एक और समस्या आयी कि लड़कियों को पढ़ाने के लिए कोई शिक्षिका नहीं मिली। तब इन्होने दिन रात एक करके स्वयं यह कार्य किया और पत्नी सावित्री बाई फुले को इस काबिल बनाया। उनके इस कार्य में कुछ उच्च वर्ग के पितृसत्तात्मक विचारधारावादियों ने बाधा डालने की कोशिश की। परन्तु ज्योतिबा नहीं रुके तो उनके पिता पर दबाव दाल कर इन्हे पत्नी सहित घर से निकलवा दिया। इससे कुछ समय के लिए उनके कार्य व जीवन में वाधा जरूर आयी। परन्तु शीघ्र ही वे फिर अपने उद्देश्य की ओर अग्रसर हो गए। 

             इन्होने दलितों व महिलाओं के उत्थान के लिए अनेक कार्य किये। 24 सितंबर 1873 ई. को इन्होंने महाराष्ट्र में "सत्यशोधक समाज" की स्थापना की। इन्होने समाज के सभी वर्गों के लिए शिक्षा प्रदान किये जाने की मांग की। ये भारतीय समाज में प्रचलित जाति व्यवस्था के घोर विरोधी थे। इन्होने समाज के जाति आधारित विभाजन का सदैव विरोध किया। इन्होंने जाति प्रथा को समाप्त करने के उद्देश्य से बिना पंडित के ही विवाह संस्कार प्रारंभ किया। इसके लिए बॉम्बे हाई कोर्ट से मान्यता भी प्राप्त की। इन्होंने बाल-विवाह का विरोध किया। ये विधवा पुनर्विवाह के समर्थक थे। 

  ज्योतिबा राव फुले बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। ये उच्च कोटि के लेखक भी थे। इनके द्वारा लिखी गयी प्रमुख पुस्तकें निम्नलिखित हैं – गुलामगिरी (1873), क्षत्रपति शिवाजी, अछूतों की कैफियत, किसान का कोड़ा, तृतीय रत्न, राजा भोसला का पखड़ा इत्यादि।

   महात्मा की उपाधि –1873 ई. में सत्य शोधक समाज की स्थापना के बाद इनके सामाजिक कार्यों की सराहना देश भर में होने लगी। इनकी समाजसेवा को देखते हुए मुंबई की एक विशाल सभा में 11 मई 1888 ई. को विट्ठलराव कृष्णाजी वंडेकर जी ने इन्हें महात्मा की उपाधि से सम्मानित किया।

   इनकी मृत्यु 28 नवंबर 1890 ई. को 63 वर्ष की अवस्था में पुणे (महाराष्ट्र) में हो गयी।

महात्मा ज्योतिबा राव फूले जी के जन्मदिन पर आप सभी को एकलव्य मानव संदेश परिवार की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं


   आज की हकीकत है इन तस्वीरों में




 गुड न्यूज!! 

सम्पूर्ण निषाद वंश के साथ - साथ शोषित वर्ग की मजबूत अवाज़ अप्रैल 2021 की एकलव्य मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका तैयार हो चुकी है, आप भी पत्रिका मंगाकर समाज को जागरूक एवं चेतनशील बनाने में सहयोग कर सकते हो। आज ही पत्रिका मंगाने के लिए संपर्क करें। 


    एकलव्य मानव संदेश हिंदी मासिक पत्रिका (अप्रैल 2021 का अंक) की एक कॉपी केवल 35 रुपया में साधारण डाक से और 5 कॉपी रजिस्टर्ड डाक पार्सल खर्च सहित केवल 175 रुपया में पूरे देश में हर जगह मंगाने के लिए 

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667

नोट- आपका अपना पैसा 

पेटीएम,

गूगल पे, 

फोन पे

से 9219506267 पर ऑनलाइन भेज सकते हैं।



एकलव्य मानव संदेश

खबरची मीडिया नहीं हैं, हम सामाजिक क्रांति के लिए कार्य करते हैं, इसलिए ऐसे महिला पुरुष साथी जो हमारे इस अभियान में साथ दे सकते हैं, वे अपने काम के साथ साथ हमारे प्रतिनिधि बनकर भी कार्य कर सकते हैं। अब एक नई पहल के अंतर्गत एकलव्य मानव संदेश के साथ जुड़ने वाले हर व्यक्ति का खुद का विज्ञापन एकबार हमारी मासिक पत्रिका में छापा जा रहा है। जिससे आपको देेेश और दुनिया में जान पहचान मिल सके। (अधिक जानकारी के लिए अंत में दिये गए मोबाइल और व्हाट्स नम्बरों पर कर सकते हैं) 



     एकलव्य मानव संदेश के प्रचारक, रिपोर्टर, ब्यूरो, ब्यूरो चीफ बनने पर आपको अपनी खबरों को प्रसारित करने के लिए प्रिंट और डिजिटल मीडिया के 10 प्लेटफार्म एक साथ मिल रहे हैं, जो इस प्रकार हैं- 

1. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी सप्ताहिक समाचार पत्र।

2. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी मासिक पत्रिका।

3. गूगल प्ले स्टोर पर ऐप - Eklavya Manav Sandesh

4. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.com

5. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.page

6. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (30 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

7. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (6 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

8. फेसबुक पेज - Eklavya Manav Sandesh

9. ट्विटर - Eklavya Manav Sandesh और Jaswant Singh Nishad

10. टेलीग्राम चैनल - Eklavya Manav Sandesh

(पूरी जानकारी इसी खबर के अंत में दी गई है, जिनको किलिक करके आप देख सकते हैं) 


 एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन 28 जुलाई 1996 को अलीगढ़ महानगर के कुआरसी से दिल्ली निवासी चाचा चौधरी हरफूलसिंह कश्यप जी (वीरांगना फूलन देवी जी के संरक्षक चाचा) के कर कमलों के द्वारा दिल्ली के सरदार थान सिंह जोश के साथ किया गया था। 

  अब एकलव्य मानव संदेश साप्ताहिक समाचार पत्र के साथ- साथ अपनी मासिक पत्रिका भी प्रकाशित कर रहा है, जो अतिपिछड़ी जातियों के जन जागरण के कार्य में एकलव्य मानव संदेश के ही कार्यों को मजबूती के साथ आगे बढ़ाएगी।

    आप भी एकलव्य मानव संदेश मासिक पत्रिका को मंगाकर सामाजिक जागरूकता अभियान में सहयोग कर सकते हैं।  पत्रिका के सदस्य बनने के लिए आप इस समाचार के अंत में दिये गए नम्बरों पर सम्पर्क कर सकते हैं। 

     एकलव्य मानव संदेश का डिजिटल चैनल भी है (पूरी जानकारी इसी खबर के साथ नीचे दी जा रही है) जो डिजिटल क्रान्ति के माध्यम से देश और दुनिया में सामाजिक जागरूकता के कार्य में एक जाना माना ब्रांड बनकर उभर रहा है। 

आओ अब पत्रिकारिता के माध्यम सामाजिक एकता को मजबूत बनाएं.. 

  जिम्मेदार मीडिया की पहुंच अब सोशल मीडिया के अधिकांश साधनों के द्वारा देश और दुनिया के हर कोने में तक हो रही है, आप भी इसके साथ जूड़कर समाज को मजबूत और जागरूक कर सकते हो।

एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखने के साधन-

1. गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh ऐप डाउनलोड करने के लिए लिंकः https://goo.gl/BxpTre

2. वेवसाईटेंwww.eklavyamanavsandesh.com

www.eklavyamanavsandesh.Page

यूट्यूब चैनल- 2 हैं

Eklavya Manav Sandesh

लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg

(30.3 हजार से ज्यादा सब्सक्राइबर)

https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg

(6200 के लगभग सब्सक्राइबर)

फेसबुक पर- हमारे पेज

Eklavya Manav Sandesh

 को लाइक करके

लिंकः https://www.facebook.com/eManavSandesh/

ट्विटर पर फॉलो करें

Jaswant Singh Nishad

लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad (@JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09

एवं

लिंकःCheck out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09

Teligram chennal 

https://t.me/eklavyamanavsandesh/262

आप हमारे रिपोर्टर भी बनने

और विज्ञापन के लिए

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667