नाई समाज का अपमान करने पर झारखण्ड के स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करने के लिए मुख्यमंत्री सोरेन को लिखा पत्र

अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो रिपोर्ट। अतिपिछड़ा अधिकार मंच ने नाई समाज का अपमान करने पर झारखण्ड के स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराकर कानूनी कार्यवाही करने के लिए मुख्यमंत्री सोरेन को पत्र लिखा है। 


    पत्र में कहा गया है कि सरकार द्वारा जारी जाति की सूची शासनादेश में कहीं भी नऊआ शब्द अंकित नहीं है, नाई आदि शब्द अंकित है। माननीय स्वास्थ्य मंत्री द्वारा सोशल मीडिया पर चली कुछ वीडियो में निर्लज्ज, अशोभनीय, अपमानित करने वाला नऊआ शब्द बोलकर नाई समाज को अपमानित किया है तथा शासनादेश का संवैधानिक पद पर रहते हुए उल्लंघन किया है, इस आधार से अपराध बनता है। आगे लिखा है कि आपको बड़े ही विनम्रता पूर्वक अवगत कराना चाहते हैं कि आपके मंत्रिमंडल में शामिल माननीय स्वास्थ्य मंत्री द्वारा कोरोना 19 की गाइड लाइन अपनी बैठक के निर्णय को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सामने बताते हुए कहा की जमशेदपुर को छोड़कर सारी दुकाने खुलेगी और कहा कि नऊआ वगैरह की दुकाने खोलने का निर्णय लिया है। इस बयान को सुनकर नाई समाज के साथ अति पिछड़े वर्ग में भारी आक्रोश की लहर चल पड़ी है। ऐसी गंभीर स्थिति में पिछड़ा अधिकार मंच की एक अति शीघ्र आवश्यक बैठक दिनांक 10,6,2021 को बुलाकर श्री जवाहरलाल बघेल एडवोकेट अध्यक्ष अलीगढ़ मंडल उत्तर प्रदेश की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में उपस्थित संगठन के पदाधिकारियों ने माननीय स्वास्थ्य मंत्री द्वारा बोले हुए शब्दों पर रोष प्रकट करते हुए निंदा की गई तथा सर्वसम्मति से कानूनी कार्यवाही कराएं जाने की मांग का प्रस्ताव पारित किया गया।।     बैठक में श्री पूरणमल प्रजापति, श्री आई पी कश्यप, श्री सूरजपाल सिंह राणा, श्री प्रकाश वीर कुशवाहा, श्री उदय वीर सिंह नागर, श्री जसवंत सिंह निषाद, श्री मुकेश कुमार सैनी एडवोकेट, श्रीमती मंजू लता बाला, श्री हरिशंकर कुशवाहा एडवोकेट, श्री सुभाष चंद्र प्रजापति एडवोकेट, श्री सरनाम सिंह, डॉक्टर नजमुद्दीन अंसारी, श्रीमती मंजू सैनी, श्री सुरेश चंद्र कुशवाहा, श्री शकील कादरी, डॉक्टर शेर पाल सिंह सविता, श्रीमती रीता राजपूत, श्री जय प्रकाश लोधी, श्री सूरज पाल सिंह प्रजापति एडवोकेट, श्री राम नेताजी, श्री राम सिंह आर्य, श्री विश्वनाथ सिंह, श्री शिवनाथ सिंह, श्री गोवर्धन सिंह, श्री सीपी सिंह सोंगरा, श्री बद्री प्रसाद आदि मौजूद रहे। बैठक का संचालन श्री चेतन स्वरूप राजोरिया ने किया।

     झारखण्ड के मुख्यमंत्री जी से सभी ने विनम्रता पूर्वक निवेदन करते हुए कहा कि लोकतंत्र में शासनादेश का उल्लंघन माननीय स्वास्थ्य मंत्री ने संवैधानिक पद पर रहते हुए, नऊआ शब्द बोलकर नाई समाज का अपमान किया है। जिसमें अति शीघ्र कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जाए, जिससे कानून पर आम नागरिकों का भरोसा कायम रहे तथा भविष्य में ऐसी पुनः आवृत्ति को रोका जा सके।

    इसकी प्रतिलिपि आवश्यक कार्यवाही हेतु सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार को भी भेजी है।

Popular posts
7 जून 2021 को निषाद, कश्यप, बिन्द के परिभाषित आरक्षण के ज्ञापन को भेजने से पहले इस निर्देश को ध्यान से पढ़ें
Image
पहुंचा दो सभी निषाद, बिन्द, कश्यप युवाओं तक यह संदेश
Image
"क्यों घबराई भाजपा निषाद वोटों को लेकर" आज 12 जून की शाम को फेसबुक पेज और यूट्यूब चैनल पर लाइव देखें
Image
बड़ा खुलासा : पंचायत चुनाव में निषाद प्रत्याशियों को हराने के लिए डॉ. संजय कुमार निषाद ने रची साजिश-राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष।
Image