मेरी शेरनी बेटी की हत्या करवाने वाली पार्टी बीजेपी के सहयोगी का पैसा नहीं चाहिए मुझे- मूला देवी

जालौन, उत्तर प्रदेश (Jalaun, Uttar Pradesh), एकलव्य मानव संदेश ब्यूरो रिपोर्ट। चार दिन पहले वीआईपी (VIP) पार्टी के पदाधिकारी फूलन देवी जी के गांव शेखपुर गुढ़ा कालपी जालौन पहुंचे थे, वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी के दूत बनकर। जिनमें वीआईपी प्रदेश अध्यक्ष चौ. लौटन राम निषाद, युवा मोर्चा राष्ट्रीय अध्यक्ष संतोष सहानी, युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हरिओम सिंह निषाद सहित कई वीआईपी समर्थक थे। मुकेश सहनी द्वारा फूलन देवी की माता जी के लिए कुछ पैसे उनको वीआईपी बनने के लिए भिजवाए थे। वीरांगना फूलन देवी जी की माता जी श्रीमती मूला देवी जी ने पैसों को लेने से साफ इंकार कर दिया और बोलीं, मेरी शेरनी बेटी की हत्या करवाने वाली पार्टी बीजेपी के सहयोगी का पैसा नहीं चाहिए मुझे। जो - जो लोग मेरी बेटी के हत्यारे की पार्टी को स्पोर्ट करेंगे, मेरी बेटी के नाम को भूनाकर घटिया राजनीति करेंगे, जीवन में कभी भी कामयम नहीं होंगे, उन सबका सत्यानास हो जाएगा, कुछ लोगों का तो हो चुका है। 

ट्विटर लिंकः 

https://twitter.com/JaswantSNishad/status/1415200954912174082?s=19


   माता जी ने आगे कहा जब - जब किसी हरामियों को अपनी पार्टी चलानी होती है, तभी इन लोगों को फूलन के मां की याद आती है। आज तक किसी ने फोन पर हाल खबर तक नहीं पूछा की अम्मा किस हाल में हैं, आज आएं हैं अम्मा के हमदर्द बनने।

  (कुछ दिन पहले ही एकलव्य मानव संदेश ने यह तस्वीर जारी की थी, कैसे समाज के वलीदानियों के परिजनों को धोखा दे रहे हैं लोग)

साथ में फ़ोटो खिंचवाने के आग्रह पर माता जी ने कहा वीरांगना फूलन देवी जी प्रतिमा के साथ चाहे जितनी फोटो ले लो, मगर किसी पार्टी की टोपी पहनकर नहीं और लोगों को टोपी उतरवाकर ही घरमे घुसने दिया गया। इस तरह फूलन देवी जी की माता जी ने किसी भी राजनीतिक सौदागरों के साथ फोटो खिंचवाने से साफ इंकार करके समाज के दलालों को सही संदेश दिया है। क्योंकि कहने को तो वीआईपी बनते हैं लोग, बड़ी बड़ी डींगे हाकते हैं, ज्ञानी, बुद्धजीवी बनते हैं, वीरांगना फूलन देवी जी की प्रतिमा को उनके जन्म स्थान पर लगी हैं, लेकिन उस पर चढ़ाने के लिए एक 20 रुपए की माला साथ लेकर नहीं गए थे। 


   आपको बता दें, जब वीरांगना फूलन देवी जी की हत्या 25 जुलाई को भाजपा की अटल बिहारी वाजपेयी सरकार का मानसून सत्र चल रहा था तब ही एक बड़ी साजिश के तहत की गई थी। फूलन देवी जी के संसद निषाद 40 अशोका रोड के बराबर में हीं राजनाथ सिंह जी का भी बंगला था। कहते हैं, इस बंगले से ही उनके घर की निगरानी भी की जाती थी। राजनाथ सिंह जी उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री थे। वीरांगना फूलन देवी जी की हत्या संसद के पास संसद सत्र के दौरान हुई और हत्यारा आज खुला जब घूम रहा है। केंद्र में भाजपा की मोदी सरकार और इस सरकार में राजनाथ सिंह जी गृहमंत्री जिनके मंत्रालय के अधीन दिल्ली पुलिस आती है, उसकी लचीलेपन के कारण ही हत्यारे शेर सिंह राणा को जमानत मिली। आज भी केंद्र में भाजपा की मोदी सरकार है और उत्तर प्रदेश में भाजपा की योगी आदित्यनाथ की सरकार और बिहार में भाजपा गठबंधन की सरकार है। बिहार में मुकेश सहानी की वीआईपी पार्टी बिहार में भाजपा के साथ है और मुकेश सहानी मंत्री हैं। इधर उत्तर प्रदेश में निषाद पार्टी भी भाजपा के साथ है और दोनों ही पार्टी वीरांगना फूलन देवी जी के नाम और पोस्टर का जमकर प्रयोग करती हैं। ऐसी पार्टियों को सबक सिखाने के लिए वीरांगना फूलन देवी जी की माता जी मूला देवी जी ने सही बर्ताव किया है।

-----------/-------------//-------------/-------------

25 जुलाई फूलन देवी शहादत दिवस पर परिभाषित आरक्षण लागू कराने को ज्ञापन भेजने की विशम्भर प्रसाद निषाद की अपील

   पहले निचे दी गई यूट्यूब लिंकः पर किलिक करके खुद ध्यान से इस वीडियो को देखें और फिर इतना शेयर करें कि निषाद, कश्यप, बिन्द, गौंड, मझबार, तुरैहा, बेलदार, मांझी, रायकवार, कहार, धुरिया, बाथम, मल्लाह, केवट, धीवर समाज के सभी साथियों के मोबाइल पर पहुंच जाय, जिससे 25 जुलाई 2021 को हर गांव मोहल्ले से ऑनलाइन ज्ञापन महामहिम राष्ट्रपति जी को भेजकर परिभाषित आरक्षण को संसद के इसी मानसून सत्र में लागू करने को मोदी, योगी सरकार तैयार हो जाय।

यूट्यूब लिंकः

https://youtu.be/Qqg_nuX0_sw


ट्विटर लिंकः

https://twitter.com/JaswantSNishad/status/1414972774552989699?s=19


----------------------------- -  ///----------///  ------

अब एकलव्य मानव संदेश का रिपोर्टर बनना हुआ आसान!!

आप पाठक बनकर आप भी बन सकते हैं प्रेस रिपोर्टर!!

अधिक जानकारी के लिए

अभी कॉल कीजिए

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667

जुलाई 2021 की एकलव्य मानव संदेश हिन्दी मासिक पत्रिका पूरे भारत में जहाँ भी आप रहते हो वहीं डाक से मंगाने के लिए आज ही अपना ऑर्डर भेजें।

*पत्रिका 35 रुपया (साधारण डाक से)* , 

*5 पत्रिका 175 रुपया (डाक पार्सल खर्च सहित)*

*सालाना मेम्बरशिप केवल 400 (साधारण रुपया डाक से)*

पत्रिका के लिए *पैसा आप केवल ऑनलाइन*

Jaswant Singh nishad स्टेट बैंक Saving account नम्बर 31602629741

IFS code SBIN0003773

SBI Dharam Samaj College Aligarh ब्रांच

या

गूगल पे, फोन पे, पेटीएम से

9219506267 पर भी भेज सकते हैं।

*यह पत्रिका निषाद, बिन्द, कश्यप समाज के परिभाषित SC आरक्षण विशेषांक है।*

पत्रिका मंगाने के लिए

अपना नाम

पिताजी का नाम

मकान नम्बर

गली नम्बर

लैंडमार्क

गांव या मोहल्ला (शहर में) का नाम

जिला का नाम

पिन कोड नम्बर

व्हाट्स ऐप नंबर

लिखकर भेजें

---///---///////-----//-------

एकलव्य मानव संदेश

खबरची मीडिया नहीं हैं, हम सामाजिक क्रांति के लिए कार्य करते हैं, इसलिए ऐसे महिला पुरुष साथी जो हमारे इस अभियान में साथ दे सकते हैं, वे अपने काम के साथ साथ हमारे प्रतिनिधि बनकर भी कार्य कर सकते हैं।

     एकलव्य मानव संदेश के प्रचारक, रिपोर्टर, ब्यूरो, ब्यूरो चीफ बनने पर आपको अपनी खबरों को प्रसारित करने के लिए प्रिंट और डिजिटल मीडिया के 10 प्लेटफार्म एक साथ मिल रहे हैं, जो इस प्रकार हैं-

1. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी सप्ताहिक समाचार पत्र।

2. एकलव्य मानव संदेश हिन्दी मासिक पत्रिका।

3. गूगल प्ले स्टोर पर ऐप - Eklavya Manav Sandesh

4. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.com

5. वेबसाइट - www.eklavyamanavsandesh.page

6. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (30 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

7. यूट्यूब चैनल Eklavya Manav Sandesh (6 हजार सब्सक्राइबर के साथ)

8. फेसबुक पेज - Eklavya Manav Sandesh

9. ट्विटर - Eklavya Manav Sandesh और Jaswant Singh Nishad

10. टेलीग्राम चैनल - Eklavya Manav Sandesh

एकलव्य मानव संदेश हिन्दी साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन 28 जुलाई 1996 को अलीगढ़ महानगर के कुआरसी से दिल्ली निवासी चाचा चौधरी हरफूलसिंह कश्यप जी (वीरांगना फूलन देवी जी के संरक्षक चाचा) के कर कमलों के द्वारा दिल्ली के सरदार थान सिंह जोश के साथ किया गया था।

  अब एकलव्य मानव संदेश साप्ताहिक समाचार पत्र के साथ- साथ अपनी मासिक पत्रिका भी प्रकाशित कर रहा है, जो अतिपिछड़ी जातियों के जन जागरण के कार्य में एकलव्य मानव संदेश के ही कार्यों को मजबूती के साथ आगे बढ़ाएगी।

     *एकलव्य मानव संदेश का डिजिटल चैनल भी है (पूरी जानकारी इसी खबर के साथ नीचे दी जा रही है) जो डिजिटल क्रान्ति के माध्यम से देश और दुनिया में सामाजिक जागरूकता के कार्य में एक जाना माना ब्रांड बनकर उभर रहा है।*

*आओ अब पत्रिकारिता के माध्यम सामाजिक एकता को मजबूत बनाएं..*

एकलव्य मानव संदेश की खबरें देखने के साधन-

1. *गूगल प्ले स्टोर से Eklavya Manav Sandesh ऐप डाउनलोड करने के लिए लिंकः* https://goo.gl/BxpTre

*2. वेवसाईटें* - www.eklavyamanavsandesh.com

और

www.eklavyamanavsandesh.Page

*यूट्यूब चैनल- 2 हैं*

Eklavya Manav Sandesh

लिंकः https://www.youtube.com/channel/UCnC8umDohaFZ7HoOFmayrXg (31 हज़ार के लगभग सब्सक्राइबर)

https://www.youtube.com/channel/UCw5RPYK5BEiFjLEp71NfSFg (7 हज़ार के लगभग सब्सक्राइबर)

*फेसबुक* पर- हमारे पेज

Eklavya Manav Sandesh

को लाइक करके

*लिंकः* https://www.facebook.com/eManavSandesh/

*ट्विटर* पर फॉलो करें

Jaswant Singh Nishad

लिंकः Check out Jaswant Singh Nishad ( @JaswantSNishad): https://twitter.com/JaswantSNishad?s=09

एवं Eklavya Manav Sandesh

लिंकःCheck out Eklavya Manav Sandesh (@eManavSandesh): https://twitter.com/eManavSandesh?s=09

*Teligram chennal*

https://t.me/eklavyamanavsandesh/262

आप हमारे रिपोर्टर भी बनने

और विज्ञापन के लिए

सम्पर्क करें-

जसवन्त सिंह निषाद

संपादक/प्रकाशक/स्वामी/मुद्रक

कुआर्सी, रामघाट रोड, अलीगढ़, उत्तर प्रदेश, 202002

मोबाइल/व्हाट्सऐप नम्बर्स

9219506267, 9457311667

Popular posts
आज संसद में विशम्भर प्रसाद निषाद जी ने फिर उठाया परिभाषित SC आरक्षण का मुद्दा : सदन नहीं चलने के कारण नहीं उठा सके आज
Image
विशम्भर प्रसाद निषाद जी द्वारा पाक जेलों में बन्द भारतीय मछुआरों के बारे में पूछे गए सवाल का जबाब 6 माह बाद लिखित में दिया मंत्री ने
Image
आज फिर विशम्भर प्रसाद निषाद जी का SC प्रमाण पत्र से सम्वन्धित सवाल राज्यसभा में हंगामे की भेंट चढ़ गया
Image
25 जुलाई को वीरांगना फूलन देवी शहादत दिवस पर उत्तर प्रदेश के हज़ारों गांव से निषाद बिन्द कश्यप समाज ने भेजे परिभाषित आरक्षण लागू कराने के लिए महामहिम राष्ट्रपति जी को ऑनलाइन ज्ञापन
Image
पूरी जानकारी : कैसे भेजें 25 जुलाई 2021 को निषाद, कश्यप, बिन्द समाज की पुकारू जातियों के परिभाषित एससी आरक्षण लागू कराने के लिए राष्ट्रपति जी को ज्ञापन
Image